पेटलावद राजनीति हलचल; वर्षो बाद पेटलावद नगर परिषद सीट पर अनुसूचित जनजाति महिला के लिये हुई आरक्षित.

0
1353

सलमान शैख़@ झाबुआ Live
अब पेटलावद नगर परिषद में अध्यक्ष पद के लिए अनुसूचित जनजाति महिला के लिए आरक्षित हो गई है। ऐसा सालों बाद हुआ है, क्योंकि अभी तक सामान्य पुरुष, महिला, पिछड़ा पुरुष, महिला ही इस सीट पर अध्यक्ष के लिए आरक्षित होती आई है।
भोपाल में नगर परिषद पेटलावद के अध्यक्ष पद के आरक्षण की लॉटरी जैसे ही निकली, किसी के चेहरे खिल गए तो कोई उदास हो गया। अब किसी की मनपसंद सीट महिला के खाते में आ गई तो पुरुष दावेदारों का मूड बिगड़ गया। उनके अध्यक्ष पद हासिल करने की प्लानिंग पर पानी फिर गया। जबकि पिछले चुनाव में अध्यक्ष सीट पर पिछड़ा वर्ग पुरूष को मिला था, जिस पर भाजपा से मोटाभाई ने चुनाव लड़कर जीत हासिल की है।
ऐसी स्थिति में सबसे बड़ा झटका अध्यक्ष की टिकट की चाह रखने वाले राजनीतिक दलों के दिग्गजों और कुछ समाजसेवी उर्फ भू-माफिया को भी लगा है, जिन्हें अब मौका शायद ही मिल सके। हालांकि अभी वार्डवार आरक्षण की स्थिति साफ नहीं हुई है पर जनसंख्या के हिसाब से नगर परिषद ने आरक्षण की स्थिति का खाका तैयार किया जा रहा है।
अब कौन होगा उम्मीदवार-
नगर परिषद अध्यक्ष आरक्षण की प्रक्रिया के बाद कई दिग्गजों के अरमानों पर पानी फिर गया है। ऐसे में उन्हें अब कोई वार्ड तलाशना पड़ सकता है। अब सबसे बड़ा सवाल पेटलावद सीट पर हो रहा है कि अनुसूचित जनजाति महिला सीट होने पर किस महिला को भाजपा और कांग्रेस आदि दल मौका देंगे। ख़बर तो यह भी है कि निर्दलीय भी अध्यक्ष पद की दावेदारी करकर चुनाव लड़ सकते हैं।
अभी तक के समीकरण तो यही कहते है कि इस सीट पर भाजपा का ही कब्जा रहेगा, फिर भी जनता का मूड इस बार किधर जाए यह तो चुनाव के बाद ही पता चलेगा, लेकिन अब पेटलावद अध्यक्ष सीट पर लड़ाई रोमांचक होने वाली है। आरक्षण के बाद अब कई नेता परिवार की महिलाओं को चुनाव मैदान में उतारने की योजना बना रहे हैं तो पहले आरक्षण के चलते मौका गवां चुके नेताओं की अब इस बार मौका मिलते ही बांछें खिल गईं हैं और वे भी अपनी पत्नियों को चुनाव लड़ाने की तैयारी में जुट गए हैं।
कई ऐसे बरसाती मेंढक भी बाहर निकलेंगे जो अपनी-अपनी पत्नियों को चुनाव में टिकट के लिए दावेदारी करते नजर आएंगे।
भाजपा से ये कर सकते है दावेदारी, कांग्रेस को रहेगी किसी बड़े चेहरे की तलाश-
पेटलावद सीट आदिवासी महिला आरक्षित होने पर कई महिला नेत्रियों के नाम सामने आ रहे है। माना यह जा रहा है कि वे महिला भाजपा में टिकट के लिए दावेदारी कर सकती है। इनमें पूर्व राज्यमंत्री व विधायक रही निर्मला भूरिया का नाम सबसे ऊपर आ रहा है। वहीं उनके अलावा पूर्व भाजयुमो जिलाध्यक्ष व जिला पंचायत सदस्य रह चुके निलेश मीणा की पत्नि कान्ता मीणा जो माही कालोनी निवासी है उनका भी नाम सामने आया है।
भाजपा से ही दावेदार पूर्व जनपद अध्यक्ष की पुत्रवधू का नाम भी सामने आया है। वहीं कांग्रेस के पास इस बार भी किसी ऐसे चेहरे की तलाश रहेगी जो चुनाव लड़े और उसे जीत मिल जाये, लेकिन ऐसा होता दिख नही रहा है। वहीं भाजपा महिला जिलामंत्री रह चुकी सोनिया ओसारी भी भाजपा से टिकट की दावेदारी कर सकती है। साथ ही वार्ड क्रमांक 15 की पार्षद राजूड़ीबाई भी अध्यक्ष के लिए भाजपा से टिकट की दावेदारी करेगी। भाजपा में अध्यक्ष के लिए इस बार भी दावेदारों की संख्या ज्यादा रहेगी। अब देखना यह दिलचस्प होगा कि भाजपा किसे अध्यक्ष पद के लिये टिकट देती है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here