सोनिया गांधी, राहुल गांधी को पीएम बनाने में लगी और हम देश बनाने में लगे हैं : नितिन गडकरी

0
307

फिरोज खान (बबलू) ब्यूरो चीफ अलीराजपुर

सोनिया गांधी अपने बेटे राहुल गांधी को प्रधानमंत्री बनाने के लिए लड़ रही है जबकि हम देश बनाने के लिए लगे हैं। यह बात केंद्रीय मंत्री एवं भाजपा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष नितिन गडक़री ने आज अलीराजपुर के टंकी मैदान पर रतलाम-झाबुआ लोकसभा सीट के भाजपा उम्मीदवार गुमानसिंह डामोर के समर्थन में आयोजित एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहीं। सभा को संबोधित करते हुए गडकरी ने कांग्रेस और गांधी परिवार पर तीखा हमला किया। उन्होंने कहा कि जवाहरलाल नेहरू से लेकर इंदिरा गांधी और इंदिरा गांधी से लेकर सोनिया गांधी तक गरीबी हटाने की बाते जरूर करते रहे, लेकिन गरीबी नहीं हटा पाए और आज फिर गरीबी हटाने का लॉलीपॉप इन चुनावों में देते घूम रहे हैं। गडकरी ने कहा कि कांग्रेस के 72 हजार रुपए देकर गरीबी हटाने के नारे पर अब कोई भरोसा नहीं करेगा। उन्होंने कहा कि गरीबी हटी है तो कांग्रेस के नेताओं की और उनके चमचों या उनके कार्यकर्ताओं की। लेकिन आदिवासी, दलित, मुसलमान, मजदूर, किसान इनकी गरीबी नहीं हटी है। नितिन गडकरी ने कांग्रेस पर परिवारवाद को लेकर भी हमला किया उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के पेट से प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री के पेट से मुख्यमंत्री, सांसद के पेट से सांसद, और विधायक के पेट से विधायक निकलता है। पार्टी परिवारवाद के आगे आम कार्यकर्ता का कोई वजूद नहीं है। अलीराजपुर की जनसभा में नितिन गडकरी ने महाराष्ट्र में मंत्री रहते हुए अपने कामों को याद दिलाया। वहीं केंद्र सरकार एवं अपने मंत्रालय की उपलब्धियां भी गिनवाई। नितिन गडकरी ने मंच से कहा कि 26/11 के बाद कांग्रेस पाकिस्तान को जवाब देने के बजाय मोममबत्तियां जला रही थी, जबकि मोदीजी ने एयर स्ट्राइक करके दुनियाभर के सामने पाकिस्तान को उसकी औकात बता दी है। गडकरी ने जनता से पूछा कि वह मजबूर सरकार चाहते हैं या मजबूत सरकार। उन्होंने आव्हान किया कि मजबूत सरकार के लिए भाजपा को वोट दे। इसके पूर्व भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष राकेशसिंह ने कहा कि किसान कर्जमाफी मध्यप्रदेश में छलावा थी और अब किसान खून के आंसू रो रहे हैं। इसलिए इस बार कांग्रेस के झूठ में फंसना नहीं है बल्कि कमल का बटन दबाकर मोदी सरकार बनानी है। गौरतलब है कि अलीराजपुर में आज भाजपा के राष्ट्रीय अमित शाह को विजय संकल्प रैली में हिस्सा लेना था लेकिन बंगाल में कल हुए राजनीतिक घमासान से अमित शाह का दौरा रद्द हो गया और अमित शाह ने नितिन गडकरी को अपनी जगह अलीराजपुर जनसभा लेने के लिए भेज दिया।
)