माहे रमजान में नन्ही जिया खान ने रखा पहला रोजा

0
287

रितेश गुप्ता, थांदला
भारतीय संस्कृति में हर धर्म मे तप का महत्व बताया गया है। माता पिता के संस्कार बच्चों में घर कर जाते है तब वे भी अपने धर्म के अनुरूप तपस्या करने को लालायित हो जाते है। मुस्लिम समाज का पवित्र माह रमजान मुबारक महीना का आगाज हो गया है। इस्लाम में आस्था रखने वालों के लिए यह महत्वपूर्ण होता है इस पूरे महीने में इबादत और तिलावत में गुजारते हैं। इसी कड़ी में मुस्लिम गली नम्बर 5 में रहने वाले शीबा जमील अहमद खान की 10 वर्षीय नन्ही जिया ने पहला रोजा रखा और दिन भर इबादत और तिलावत करके अपने रब से अपने लिए और पूरे समाज- देश के लिए खुशहाली अमन शांति और तमाम देशवासियों के लिए कोरोना से निजात और खात्मा के लिए दुआ मांगी। नन्ही बिटिया द्वारा पहला रोजा रखने पर तमाम मुस्लिम परिवार ने व पत्रकार बन्धुओ तथा समाजसेवी संगठनों ने जिया के तप की अनुमोदना करते हुए उसके उज्ज्वल भविष्य की शुभकामना की है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here