लापरवाही की सजा, आंगनवाडी कार्यकर्ता को नौकरी से हटाया

झाबुआ, हमारे प्रतिनिधिः समेकित बाल विकास योजना के प्रभावी क्रियान्वयन के लिये महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा मानसेवी के रूप में अस्थाई रूप से ग्राम की स्थानीय महिला को तत्समय के विभागीय दिशा निर्देशों के अनुरूप प्रत्येक आंनवाडी केन्द्र पर आंगनवाडी कार्यकर्ता/सहायिका को नियुक्त किया जाता है। जिसके कार्य उत्तरदायित्व में अपने क्षेत्र के समुदाय का सर्वेक्षण करके 06 वर्ष से कम आयु के बच्चे, गर्भवत्ती महिलाओं तथा धात्री महिलाओं की संख्या ज्ञात करना व उन्हें पुरक पोषण आहार खिलाना महिलाओं बच्चों और समुदाय को स्वास्थ्य तथा पोषाहार शिक्षा प्रदान करना 03 वर्ष से 06 वर्ष के बच्चों को शाला पूर्व अनौपचारिक शिक्षा देना।

06 वर्ष से छोटे बच्चे, गर्भवती एवं धत्री महिलाओं को प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल तथा प्राथमिक सहायता प्रदान करना है। आंगनवाडी में आने वाले बच्चों के माता-पिता को गृह भेट के माध्यम से मिलना और उनसे कार्यक्रम से सहायता प्राप्त करने की कोशिश करना, टीकाकरण और स्वास्थ्य जॉच करने में स्वास्थ्य कर्मियों की मदद करनां गंभीर रूप से अल्प पोषित/कुपोषित बीमार और खतरे वाले बच्चों को डॉक्टर के पास भेजना/रिकार्ड/रजिस्टर पूर्ण रखना खासकर वजन कार्ड बाल स्वास्थ्य कार्ड, पुरक पोषण आहार कार्ड, आंगनवाडी में उपस्थित रिकार्ड आदि रखना आंगनवाडी कार्यकर्त्ता के दायित्व का निर्वहन करना।

श्रीमती वरदी हटिला आंनवाडी कार्यकर्त्ता ग्राम पाडलवा थावरिया फलिया एकीकृत बाल विकास सेवा परियोजना रानापुर द्वारा अपने उक्त पदीय कर्त्तव्यों का निर्वहन नहीं किये जाने आंगनवाडी केन्द्र पर अनुपस्थित रहने से परियोजना अधिकारी राणापुर द्वारा आंगनवाडी कार्यकर्त्ता को पद से पृथक कर दिया गया है।