सड़क निर्माण कंपनियों को कलेक्टर ने दिए निर्देश अगली तारीख में काम करके बताए

झाबुआ के कलेक्टर अनुराग चौधरी ने सड़क निर्माण कंपनियों की एजेंसियों को शनिवार को पेशी के दौरान दो टूक कह दिया कि उनके द्वारा नियत तिथि पर काम करके बताए। आज कलेक्टर ने नोटिस देकर पेशी लगाई थी जिनमें एनएचआई, नगर पालिका एवं पीएचई के अधिकारी कलेक्टर के सामने पेश हुए।
झाबुआ लाइव डेस्क। जनहित के मुद्दों पर कलेक्टर की जिम्मेदारी संभाल रहे अनुराग चौधरी ने अब ढील पोल बरतने वाली एजेंसियों को कसना शुरू कर दिया है। इंदौर-अहमदाबाद हाई-वे बनाने वाली एजेंसियों के अधिकारियों एवं कंपनी के प्रतिनिधियों के साथ-साथ आज नगर पालिका के सीएमओ एवं इंजीनियर को भी तलब किया गया। साथ ही नगर पालिका द्वारा अपने बचाव में पीएचई विभाग का नाम लेने के चलते पीएचई के कार्यपालन अधिकारी को भी तलब किया गया था। एनएचआई एवं उसके निर्देशन में सड़क बना रही कंपनी के अधिकारियों ने कलेक्टर को बताया कि उनके द्वारा बीते कल से ही निर्माण फिर से शुरू कर दिया गया है और जल्द ही वे अपना तय काम पूर्ण कर लेंगे। इस पर कलेक्टर ने उन्हें झाबुआ बायपास का काम शुरू कर एक सप्ताह के भीतर प्रगति रिपोर्ट देने का आदेश दिया। वहीं उत्कृष्ट सड़क निर्माण कर रही कंपनी एवं नगर पालिका अधिकारियों को निर्देशित किया की वे आगामी 11 मार्च तक सड़क निर्माण का कार्य तेजी से प्रारंभ करे एवं सड़क की गुणवत्ता भी मानक स्तर की करना सुनिश्चित की जाए। जो पेयजल का कार्य अपूर्ण है तब भी एक लेन का कार्य पूर्ण किया जाए।
हो सकती है कार्रवाई
कलेक्टर ने विभाग के अधिकारियों एवं कंपनी के प्रतिनिधियों को निर्देशित करते हुए कहा कि तय सीमा में कार्य पूर्ण न करने एवं आदेश की अवहेलना होने की दशा में अनावेदकों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 188 की धारा के अंतर्गत दंडित करने की कार्रवाई की जाएगी। यह आदेश न्यायालय की पद मुद्रा से जारी की गई।
शिकायत पर हुई थी सुनवाई
शहर की उत्कृष्ट सड़क एवं हाई-वे पर हो रही लगातार दुर्घटना एवं उत्कृष्ट सड़क के कार्य में विलंब एवं गुणवत्ता में कमी पाए जाने के बाद जनता की शिकायत पर डीएम ने रोड निर्माण कंपनियों को तलब किया था जिस पर सुनवाई करते हुए डीएम ने उक्त आदेश सभी निर्माण कंपनियों एवं अधिकारियों को दिए गए।