मलेरिया विभाग के सर्वे ने खोली स्वास्थ विभाग के दावों की पोल

झाबुआ live के लिऐ बामनिया से ” लोकेंद्र चाणोदिया” की रिपोर्ट ।

बामनिया मे डोर टु डोर सर्वे करते स्वास्थ कर्मी
बामनिया मे डोर टु डोर सर्वे करते स्वास्थ कर्मी

आज बामनिया मे मलेरिया नियंत्रण विभाग ने जब डोर टु डोर सर्वे किया तो खुद प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री ही उनके आंकड़ो से कटघरे मे खडे नजर आये । आज जिला मलेरिया सलाहकार  ज्ञानेंद्र पाठक के नेतृत्व मे कुल 150 घरों का जब सर्वे किया गया तो 38 घरों मे डेंगू के लार्वा मौजूद पाये गये जिससे यह साफ हो गया कि प्रदेश के स्वास्थ मंत्री ओर जिले का स्वास्थ विभाग अभी तक जनमानस को बरगला रहा था ओर खुद की पीठ जबरन ही थपथपा रहा था ।

खुल गयी तैयारियो ओर दावों की पोल

विगत सप्ताह ही झाबुआ live ने खुलासा किया था कि बामनिया मे डेंगू का एक मरीज मिला है मगर सरकारी अमले ने उसे डेंगू होने के आरोप को यह कहते हुऐ खारिज कर दिया था कि हम दाहोद या बाहर की रिपोर्ट को प्रामाणिक नही मानते लेकिन खुद स्वास्थ विभाग ने उक्त मरीज के सैंपल नही लिऐ थे ओर कल रतलाम मे बामनिया के दो मरीज मिलने के बाद स्वास्थ अमला बैकफुट पर आ गया था हालांकि रतलाम मे मिले मरीजो को भी डेंगू मरीज मानने को जिला स्वास्थ अमला तैयार नही था लेकिन आज दबाव मे डोर टु डोर सर्वे को विभाग मजबूर हुआ तो खुद मलेरिया ओर डेंगू नियंत्रण की तैयारियों की पोल खुल गयी बडा सवाल यह भी है कि मलेरिया रोधी रथ निकालकर ओर कागज पर दवाईयों का छिड़काव कर क्या सरकार मलेरिया या डेंगू से निपट सकती है ?

आज जागे ओर किया छिड़काव

——————————————

आज स्वास्थ विभाग की टीम ने जब डोर टु डोर सर्वे किया तो उसे यह समझ मे आ चुका था कि बामनिया मे लगभग हर तीसरे या चौथे घर मे डेंगू लार्वा मौजूद है लिहाजा उसने तत्काल 47 घरो मे दवाईयो का लगे हाथो छिड़काव भी करवा दिया ।

यह बोले जिम्मेदार —

——————————-

जिले तो ठीक है प्रदेश भे डेंगू से अभी तक कोई मौत नही हुई है हमारा विभाग बेहतर काम कर रहा है – डा नरोत्तम मिश्रा – स्वास्थ मंत्री

——————————————–

हमारी टीम ने बामनिया मे सर्वे किया है आज ओर उसमे हमे 150 घरों मे से 38 घरो मे डेंगू के लार्वा मिले है हमे दाहोद ओर रतलाम मे भी बामनिया के कुछ लोगों के डेंगू से पीडित होने की बात बताई गयी है – ज्ञानेंद्र पाठक – जिला मलेरिया काउंसलर झाबुआ