पेटलावद विस्फोट जांच एजेंसिया कर रही अवैध वसूली

झाबुआ। पेटलावद विस्फोट के बाद जांच के नाम पर भारी भ्रष्टाचार किया जा रहा है। झाबुआ जिले के एवं जिले के आस पास तथा धार जिले के लायसेन्स धारियों के लायसेन्स जांच के नाम पर एसआइटी द्वारा जांच की जा रही है तथा उनके द्वारा सही लाइसेंस धारियों को डराया धमकाया जा रहा है। उक्त आरोप जिला कांग्रेस कार्यवाहक अध्यक्ष एवं जिला पंचायत अध्यक्ष कलावती भूरिया द्वारा लगाया गया है। भूरिया ने अवगत करवाया किा सूत्रों से जानकारी उन्हे प्राप्त हुई है कि एसआईटी एवं अन्य जांच एजेंसियां द्वारा जांच के नाम उनसे अवैध रूप से राशि वसूली की जा रही है। तथा उनसे लाखों रुपए की मांग की जा रही है तथा न देने पर उनके खिलाफ किसी भी तरह का प्रकरण दर्ज करने की धमककियां दी जा रही है। भूरिया ने बताया कि ईमानदार लाइसेंसधारी भी जांच एजेंसियां के धेरे में आ चुके है। कलावती भूरिया ने बताया कि इस तरह की जांच से तो मृतको की आत्मा को शंाति प्राप्त नहीं होगी तथा मृतको के परिवार अपने आप को ठगा महसूस कर रहे है। किसी लाइसेंसधारी द्वारा उक्त कार्य कई वर्षो पूर्व बंद कर दिया गया उन्हे भी परेशान किया जा रहा है। जांच में भी कईतरह की लीपापोती की जा रही है दोषियों एवं फर्जी लायसेन्सधारीयों को पैसा लेकर बचाने का कार्य किया जा रहा है। भूरिया ने प्रशासन से मांग की है कि उक्त प्रकरण में एसआईटी की जांच को संदेहास्पद बताते हुए सीबीआई से जांच की मांग की है जिससे की भ्रष्ट जांच अधिकारियों को बेनकाब किया जा सके तथा विस्फोट से जुडे अन्य लोग के खिलाफ भी कार्यवाही हो सके। वर्तमान चल रही जांच से मृतकों के परिवार एवं क्षेत्र की जनता इस जांच से पूरी तरह संतुष्ट नहीं है। ऐसे में वर्तमान में चल रही जांच में कई तरह के प्रश्नचिन्ह लग चुका है,ऐसे में निष्पक्ष जांच के लिए सीबीआई जांच ही एक मात्र विकल्प है।