पुलिस ने अंधेकत्ल का किया पर्दाफाश, बीएसएफ जवान निकला हत्यारा

0
879

जितेंद्र वाणी (राज), नानपुर
विगत 6 फरवरी को विक्रम जमरा ने ग्राम धुधलवाट ने नानपुर थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी कि नादमसिंह का फोन 7.45 बजे आया और उसने कहा कि तेरा भाई भेरू का शव मसनी में नीम के पेड़ पर लटका हुआ है। बाद में मोहल्ले वाले सरपंच नादमसिंह, दिलीप पिता सरदार, इड़ा पिता केमता, मोटला पिता जुवानसिंह, छगनसिंह पिता केमता व अन्य गांव वाले को लेकर मसनी के पटेल फलिया खोदरे की धड़ पर नीम के पेड़ पर गले में रस्सी के फंदे डाले लटका मिला। इसके बाद पुलिस को सूचना और ने धारा 174 जाफौ में मामला दर्ज कर जांच में लिया। पुलिस ने सूक्ष्मता से जांच की तो पाया कि अज्ञात व्यक्तियों द्वारा मृतक भेरू पिता चमारिया की हत्या कर शव को पेड़ से लटका दिया। इसके बाद नानपुर पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ धारा 302 भादवि में मामला दर्ज किया। एसपी विपुल श्रीवास्तव के निर्देश में एएसपी अलीराजपुर, एसडीओपी जोबट के मार्गदर्शन में थाना प्रभआरी दिनेश चंगो़, सउनि पीएल यादव, प्रआर मनीष कुमार, प्रआर विजय, प्रआर ईश्वर, प्रआर महेश, प्रआर भेरूसिंह, आर रमेश निंगवाल की टीम गठित की गई। विवेचना के दौरान अज्ञात आरोपियों की खोजबीन में पाया गया कि आरोपी दिनेश पिता वेरसिंह मोर्या उम्र 21 वर्ष निवासी ग्राम धुंधलवट व रणजीत पिता मांगतिया ने पुरानी रंजिश को लेकर मृतक भेरूसिंह पता चमरिया की हत्या कर दी। वहीं आरोपी ज्ञानसिंह पिता वेरसिंह मोर्य आयु 35 वर्ष ग्राम धुंधलवट खोदरा फलिया का रहवासी है एवं बीएसएफ 161 बटालियन जेसलमेर के सेक्टर ए रामगढ़ राजस्थान में पदस्थ था एवं दो माह पूर्व ही अवकाश लेकर अपने घर आया था व अवकाश के दौरान ही पुरानी रंजिश के चलते अपने सहयोगी के साथ मिलकर भेरूसिंह पिता चमारिया की हत्या कर दी। एसपी ने पुलिस टीम के प्रयासों की सराहनीय करते हुए पुरस्कार दिए जाने की घोषणा की है।
)