अंचल मे फिर से कमल खिलाना है- नन्दकुमारसिंह चोहान

2 1झाबुआ। हमारे नेता सांसद दिलीपसिंह भूरिया हम सब को छोड कर चले गये इसी कारण लोकसभा का उप चुनाव हो रहा है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चोहान की बात पर दिलीपसिंह भूरिया दिल्ली चुन कर गये थे और जिले से कांग्रेस पार्टी का सफाया किया था। वह एक सच्चे, इमानदार एवं आदिवासी क्षेत्र के सर्वांगीण विकास पुरुष थे। जीवन भर उन्होने आदिवासी हित में अपनी आवाज बुलंद कर इनके हक्क के लिये कार्य किया था ।पूरा राजनैतिक जीवन बेदाग रहा और जीवन के अन्तिम दिनों तक बेदाग रहे। अटलजी जब प्रधानमंत्री थे तब श्री भूरिया को अजजा आयोग का राष्ट्रीय अध्यक्ष का दायित्व उन्हे सोंपा गया था और वन भूमि के पट्टों के लिये उनके संघर्ष के परिणाम स्वरूप ही कानून भी बन पाये थे। उक्त बात मंगलवार को विधानसभा झाबुआ क्षेत्र के अलावा रामा, पारा एवं बोरी क्षेत्र के भाजपा कार्यकर्ताओं के कार्यकर्ता सम्मेलन में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष नन्दकुमारसिंह चोहान ने व्यक्त किए। शाहनाई गार्डन परिसर में आयोजित विधानसभा झाबुआ के कार्यकर्ता सम्मेलन में प्रदेशाध्यक्ष नन्दकुमारसिंह चोहान के अलावा प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा, संभागीय संगठन मंत्री शैलेन्द्र बरूआ, इन्दौर विधायक रमेश मेंदोला, पेटलावद विधायक निर्मला भूरिया, झाबुआ विधायक शांतिलाल बिलवाल, सरदारपुर विधायक वेलजी भूरिया, मुकामसिंह किराडे, नपा अध्यक्ष धनसिंह बारिया, जिला भाजपा अध्यक्ष शैलेष दुबे, महामंत्री प्रवीण सुराणा, दौलत भावसार समेत पार्टी पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित थे। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष नन्दकुमारसिंह चैहान ने कहा कि इस आदिवासी अंचल में अभी तक दो ही आदिवासी हितैषी नेता हुए है जिसमें एक स्वर्गीय मामा बालेश्वर दयाल एवं दूसरे सांसद दिलीपसिंह भूरिया थे। बाकी जो भी चुनकर गये उन्होंने सिवाय अपने घरों को भरने के अलावा कुछ नही किया। कांग्रेस के कांतिलाल भूरिया पर निशाना साधते हुए उन्होने कहा कि इन्होने क्षेत्रीय विकास एवं आदिवासी हित के बजाय चारों दिशाओं से धन समेटकर माफियाओं के सिर पर हाथ रख कर अपने ही घर भरने का काम किया।
सिर्फ मुख्यमंत्री चोहान को है जिले की चिंता
प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि आज जो विकास इस अंचल में दिखाई दे रहा है, किसी को गरीब आदिवासियों की चिंता है तो सिर्फ प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चोहान को है उन्होने ऐसी योजनाएं क्रियान्वित की है कि एक भी व्यक्ति भूखा नही सोए। इसलिए उनकी 1 रुपए किलो चावल एवं गेहूं की योजना लागू की गई है। उन्होने कांग्रेस पार्टी को आडे हाथ लेते हुए कहा कि प्रदेशा में जब दिग्विजयसिंह मुख्यमंत्री थे, प्रदेश में जब उनका राज था तो लोगों विदेशों से रिजेक्ट किया हुआ लाल गेहूं मिलता था जो बडी मुश्किल से गले उतरता था। आज प्रदेश में काफी परिवर्तन आचुका है 15 रुपए किलो का गेहूं एवं 25 रुपए किलो का चावल अब गरीबों को 1 रुपए की दर पर मिल रहा है। चैहान ने कांग्रेस पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि दिग्गीराजा के राज में जब कांतिलाल भूरिया यहां के सर्वे सर्वा थे तब प्राइमरी से मीडिल स्कूल तक की छात्राओं को पैदल ही स्कूल आना जाना पड़ता था। बेटी कांच का बर्तन होती है, और बेटियों की सुविधा के लिए शिवराजसिंह ने सायकल वितरण योजना लागू कर कन्याओं के शैक्षणिक विकास में ऐतिहािसक काम किए हैं। उन्होने शिवराजसिंह चोहान की विभिन्न योजनाओं एवं कार्यक्रमों की विस्तार से जानकारी दी। चैहान ने प्रधानमंत्री मोदी की 12 रुपए प्रतिवर्ष के मान से लागूे एक्सीडेंटल बीमा योजना एवं मुद्रा बैंक योजना के बारे में भी विस्तार से बताते हुए केन्द्र एवं प्रदेश सरकार को आम लोगों की भलाई एवं विकास करने वाली सरकार बताया उन्होने मुख्यमंत्री द्वारा जिले को नर्मदा जल से जोड़ने की योजना पर कार्य शुरू होने की जानकारी देते हुए जिले के सर्वांगीण विकास की नई इबारत यहां लिखे जाने के बारे मे भी बात कहीं। कांग्रेस पार्टी के कुशासन का जिक्र करते हुए उन्होने कहा कि दिग्गी के राज में लोगों को बिजली बड़ी मुश्किल से 2 से 3 घंटे मिल पाती थी किसानों को फसलों के लिए सिंचाई करने में परेशानियां आती थी किन्तु आज प्रदेश के 54 हजार गांव बिजली से रोशन हो रहे है।अब तो हर फलिये में बिजली पहुंचाने का काम हो रहा है।
कांग्रेस को जड़-मूल से उखाड़ फेंके
उन्होंने कहा कि आने वाले लोकसभा के उप चुनाव काफी महत्वपूर्ण है और सभी कार्यकर्ताओं को संकल्प लेकर प्रत्येक बुथ पर भाजपा की जीत दर्ज कराना है । उन्होने घोशणा की कि पेटलावद विधायक निर्मला भूरिया को पूरे लोकसभा क्षेत्र का संयोजक घोषित किया जाता हे वे पूरे लोकसभा क्षेत्र में पार्टी की जीत के लिए ताकि कांग्रेसी पंजे को उखाड़ फेंकने के लिए काम करेगी। उन्होने कार्यकर्ताओं से एक फोज की तरह कार्यकर्ताओं से कांग्रेस को उखाड़ने का संकल्प दिलाते हुए कहा कि कांग्रेस के पाप का घडा भर चुका है और फुट चुका है और टूटे हुए टुकडे को लेकर कांग्रेसी घुम रहे है किन्तु उनकी यह चाल सफल नहीं होगी। उन्होंने पापी कांग्रेस को जड़-मूल से उखाड़ फेंकने का आव्हान करते हुए कांग्रेस को एक बुझता हुआ दीपक निरूपित किया जो अन्तिम समय में ज्यादा भभकता है। प्रदेशाध्यक्ष ने पेटलावद हादसे के दोषी राजेन्द्र कांसवा पर पूर्व सांसद कांतिलाल भूरिया का वरदहस्त होने का आरोप लगाते हुए कहा कि उन्हे लाइसेंस कांतिलाल भूरिया ने ही दिलवाया था और एक सड़क छाप आदमी को करोड़पति बनाया था। कांग्रेस एक ऐसी दुकान है जहां सभी चीजे नकली है ऐसी पार्टी का सबक सिखाना है। उन्होने कार्यकर्ताओं से कहा कि इस चुनाव में आप स्वयं ही उम्मीदवार है यही मान कर इस चुनाव को पूरे प्राण-पण से जीताने का मंत्र दिया ।