वादा कर भुले भांजियों के मामा आदिवासी बालिकाओं की मांग नहीं हुई पुरी

DSCN6670फाइल चित्र- कटृठीवाढ़ा में प्रवास के दोरान मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चैहान एवं अन्य भाजपा नेता

आलिराजपुर लाइव के लिए कटृठीवाडा से गोपाल राठौर की रिपोर्ट
प्रदेश के मुखिया शिवराजसिंह चैहान भले ही इन दिनों झाबुआ अलीराजपुर जिले के भ्रमण के दोरान बडे बडे वादे कर अपने आप को आदिवासियों का मसिहा साबित करने का प्रयास कर रहे हो लेकिन हकीकत यह है कि उनके कई वादे खोखले भी साबित हो रहे है। या फिर एसा लग रहा है कि आलीराजपुर जैसे आदिवासी बहुुल इस जिले की आदिवासी बालिकाओं को वे अपनी भांजिया मानते ही नहीं है एसा इसलिए कहा जा रहा हैं क्योंकि पिछले चार वर्षौ पुर्व प्रदेश के मुख्य मंत्री शिवराजसिंह चैहान ने कटृठीवाड़ा के अपने प्र्रवास के दोरान जो दो वादे किए थे वे अभी भी पुरे नहीे हो सके हैं और वादा पुरा नहीं होने से इस क्षै़त्र के रहवासियों एवं बालिकाओं में काफी निराशा है। वर्ष 2011 के अपने प्रवास के दोरान शिवराजसिंह चैहान ने पहला वादा स्कुल की छात्राओं से यह किया था कि आदिवासी अंचल के इस तहसील मुख्यालय पर बालिकाओं के लिए अलग से कन्या हाई स्कूल खोला जाएगा लेकिन चार वर्ष बीतने के बाद भी मुख्यमंत्री के इस वादे को लेकर कोई भी प्रयास नहीं हुए। जिसके चलते आज भी कटृठीवाड़ा की हाईस्कूल में 881 विद्यार्थी अध्ययनरत है। जिसमें से 447 छात्राएं भी है। और वे छात्रों के साथ बैठकर पढ़ने को मजबुर है। वहीं मुख्यमंत्री ने क्षैत्र के नागरीकों से यह वादा भी किया था कि कटृटीवाढ़ा जिसे प्रदेश का मिनी कशमीर भी कहा जाता है इसे पर्यटन स्थल बनाया जाएगा, लेकिन यह वादा भी अभी तक खोखला ही साबित हुआ है जिससे क्षैत्रवासियों में निराशा है। साथ ही उम्मीद भी है कि कुछ ही माह में रतलाम संसदीय सीट का उपचुनाव होना है और इससे पुर्व मुख्यमंत्री नई नई घोषणाएं कर रहे हैं उसमें उन्हे चार वर्ष पूर्व की गई घोषणा एवं आदिवासी छात्राओ से किए गए वादे याद आ जाए।