नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में मुस्लिम समाज के अनिश्चितकालीन धरना आंदोलन शुरू, पुलिस 15 लोगों पसर दर्ज की एफआईआर

0
285

फिरोज खान@अलीराजपुर

नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में रविवार को नगर के मुस्लिम समाज के द्वारा अनिश्चित कालिन धरना आंदोलन शुरू किया गया। धरना आंदोलन कर रहे लोगों ने कहा कि केंद्र सरकार के द्वारा लागू किया गया यह कानून देश हित में नहीं है। इससे देश में अराजकता और भय का वातावरण बना हुआ है। इस कानून से देश वासियों को तोडऩे का काम किया जा रहा है। यह देश सभी धर्म संप्रदाय का देश है लेकिन सरकार इस तरह का कानून लाकर मुस्लिम समुदाय के लोगों के साथ अन्याय कर रही है। पूर्व में मुस्लिम संगठन के लोगों ने मौन-जुलूस निकाल कर इस कानून का विरोध किया। वहीं धरना आंदोलन कर एक बार फिर इस कानून को लेकर आवाज उठाई। नागरिकता संशोधन कानून को देशहित और मुस्लिम समाज के हित में न होने की बात कहते हुए उक्त कानून को वापस लिए जाने की मांग उठाई है। धरने पर मौजूद प्रदर्शनकारी महिलाओं का कहना है की धरना शाहीनबाग (दिल्ली) की तरह उस समय तक जारी रहेगा जब तक केंद्र सरकार सीएए को वापस नहीं ले लेती है। सीएए के विरोध में स्थानीय कुम्हारवाड़ा क्षेत्र में रविवार को उक्त अनिश्चिकालीन धरना शुरू हुआ। जिसमें बडी संख्या में महिलाएं एवं पुरूषजन शामिल थे। इस दौरान हिन्दुस्तान जिन्दाबाद, इंकलाब जिन्दाबाद के नारे भी लगाए गए।

*15 लोगों के खिलाफ नामजद दर्ज की एफआईआर*

नागरिकता संसोधन कानून के विरोध मे टेंट के नीचे बैठकर नारेबाजी की जा रही थी। वहीं माइक में बोलकर नारेबाजी ओर विरोध प्रदर्शन करने के चलते 15 लोगों पर नामजद एफआईआर दर्ज की गई है। उक्त एफआईआर कलेक्टर महोदय के आदेश पर धारा 144 दंड प्रकिृया का उल्लंघन होकर धारा 188, 147 भादवी का दंडनीय होने से प्रकरण पंजीबद्ध कर विवेचना मे लिया गया है। मोहम्मद तसददूक उर्फ चून्नू चंदेरी, मोहम्मद सेफानी कुरेशी, रमीज बाबा, मोहम्मद साजीद, फजल मकरानी, मोहसीन मकरानी, सिम्मी मकरानी, साकिब मकरानी, ईमरान मदनी, शेरा मकरानी, अमजद मकरानी, फरीद पठान, सोहेल, सोनू चंदेरी सहित अन्य पर एफआईआर दर्ज की गई है।-दिनेश सोलंकी ,थाना प्रभारी आलीराजपुर