पूण्य सम्राट गुरुदेव श्रीमद् विजय जयन्तसेन सूरीश्वरजी म.सा का 83 वां जन्मोत्सव धूमधाम से मनाया

0
83

राज सरतलिया,पारा

बुधवार को नगर जैन समाज ने पूण्य सम्राट गुरुदेव श्रीमद् विजय जयन्तसेन सूरीश्वरजी म.सा का 83 वां जन्मोत्सव धूमधाम से मनाया। जाएगा। तरुण परिषद के सदस्यों ने नगर के स्कूलों और अस्पताल में मिठाई वितरित की वहीं मंगलवार को नवयुवक एवं महिला परिषद के सदस्यों ने मदर टेरेसा तथा रंगपुरा झाबुआ जाकर बच्चो को नवकार मन्त्र की प्रार्थना करवा कर भोजन करवाया। साथ ही नगर में अन्य कई धार्मिक कार्यक्रम आयोजित किये गए।

हुए कई धार्मिक आयोजन

पूण्य सम्राट के जन्मदिन पर अलसुबह 6.30 बजे से धार्मिक आयोजन की शुरुआत हुई जिसमें सर्व प्रथम भक्तामर पाठ, गुरु गुण इक्कीसा, गुरुगुणानुवाद, गौतम इक्कीसा एवं जयंतसेन इक्कीसा पाठ किया गया। इसके बाद नगर के प्रमुख मार्गों से होते हुए धर्म ध्वजा लेकर प्रभात फेरी निकाली गई। वहीं सदर बाजार स्थित श्री आदिनाथ -पार्श्व – सीमंधर धाम जिनालय में स्नात्र पूजन के बाद अष्टप्रकारी पूजन के बाद शासन सम्राट की अष्टप्रकारिय पूजा बोली लगा कर लाभार्थियों द्वारा की गई।

शोभायात्रा में हुई समाज के हर घर से गहुली

नगर में चल रहे सामूहिक वर्षीतप के बियासनों के बाद बेंड बाजो के साथ गच्छाधिपति के चित्र लिए एक शोभायात्रा निकाली गई। शोभायात्रा में समाज के प्रत्येक घर से गुरुदेव के फ़ोटो के समक्ष अक्षत से गहुली की गई। शोभायात्रा पुनः सदर बाजार स्थित दादा गुरुदेव श्रीमद विजय राजेन्द्र सूरिजी के मंदिरजी पहुंची जहां जयंतसेन सूरीश्वरजी के गुणों का बखान किया गया।
गुणानुवाद सभा में सर्व प्रथम
सुरभि भण्डारी ने गीत के माध्यम से गुरु जयंत को याद किया।विभाष पोखरना ने स्वरचित मुक्तक से गुरु के प्रति अपने भाव व्यक्त किये। आयुषी कांठेड़ ने अपनी कविता से पुण्य सम्राट के विशाल व्यक्तित्व को बताया।
श्री संघ अध्यक्ष प्रकाश तलेसरा
मनोहर छाजेड़,  पाठशाला के गुरुजी राजेंद्र कोठारी,  परिषद अध्यक्ष दिलीप कोठारी, सिद्धाचल ट्रस्ट के अध्यक्ष विनीत नाहटा तथा महिला परिषद की महामंत्री वर्षा छाजेड़ ने गुरु जयंतसेन सूरीश्वर की पारा के प्रति भवना की बात बताई। नन्ही बालिका चहेती कोठारी ने अपनी मीठी बोली में ओ गुरु सा थारो चेलो बनूँ मैं, हर पल तेरे साथ रहूं मैं भक्ति गीत गाया। गुणानुवाद सभा का संचालन सुरेश कोठारी ने किया। वासक्षेप पूजन का लाभ मनोरमा मनोहरलाल कर्णावट परिवार तथा आरती का लाभ श्रेणिक पगारिया परिवार ने लिया।

पहली बार हुई पूण्य सम्राट की महा पूजा

सुशील छाजेड़ ने बताया कि गुरु देव के देवलोक गमन के बाद नगर में पहली बार पूण्य सम्राट की महा पूजन पढ़ाई गई जिसका लाभ दिलीप कोठारी परिवार ने लिया।

रोशन किये दिए

गच्छाधिपति पूण्य सम्राट जयंत सेन सूरीश्वर जी के जन्मोत्सव पर रात्रि में समाज के प्रत्येक घर 5-5 दिप से रोशनी की गई। वहीं महिला परिषद ने चोवीसी के आयोजन के बाद धार्मिक कार्यक्रम आयोजित किये। सुशील छाजेड़ ने बताया कि पूण्य सम्राट के जन्मोत्सव पर श्रेणिक कुमार, राजेन्द्र कुमार, सुनील कुमार पगारिया परिवार की ओर से नगर में चल रहे सामूहिक वर्षीतप के तपस्वियों के पारणे एवं समस्त श्रीसंघ के लिए स्वामीवत्सल्य का आयोजन रखा गया । शासन सम्राट, गच्छाधिपति के जन्मोत्सव पर श्री राजेन्द्र सुरि चौक मित्र मंडल की ओर से शाम को सभी तपस्वियों के पारणे एवं श्रीसंघ हेतु स्वामिभक्ति का आयोजन किया गया।

नोट – अगर आप झाबुआ – अलीराजपुर जिले के मूल निवासी है ओर हमारी खबरें अपने वाट्सएप पर चाहते है तो आप हमारा मोबाइल नंबर 9425487490 को पहले अपने स्माट॔फोन मे सेव करे ओर फिर Live news लिखकर एक मेसेज भेज दे आपको हमारी न्यूज लिंक मिलने लगेगी