नशे की लत ने ली फिर एक नोजवान की जान; आखिर और कितनी मौतो के बाद जागेंगे जिम्मेदार ..

0
238
नवनीत त्रिवेदी@ झाबुआ Live
झाबुआ नशे का केंद्र बिंदु पिछले कुछ वर्षों से बन चुका है, आए दिन नशे से जुड़ी कोई ना कोई खबर सुनना आम बात है, भले ही पिछले 3 वर्ष पहले कुछ युवकों द्वारा एक फल व्यवसायी को चाकू मारना हो या मिशन स्कूल में पढ़ने वाले 1 छात्र की हत्या का मामला, वारदातें हो जाती है.. कायमी कर कर्तव्यों की इतिश्री कर ली जाती है लेकिन धरातल पर शून्य दिखाई पड़ता है, अब तो हर माह किसी ने किसी घर का चिराग इस नशे के दलदल में फंस काल के गाल में समा रहा है ऐसी ही घटना आज शहर के कुरेशी कंपाउंड में हुई एक युवक जिसका नाम अभिषेक बताया जा रहा है कुछ दिनों से नशे के अधिक सेवन से पीड़ित / बीमार था, आज सुबह तकरीबन 5:00 बजे के आसपास अपने ही घर में मृत पाया गया, परिजनों द्वारा जिला अस्पताल एवं वहां से दाहोद ले जाया गया लेकिन तब तक युवक की मृत्यु हो चुकी थी।
सवाल यह है कि जब पुलिस कुछेक कार्यवाही कर नशा मुक्त झाबुआ की बातें करती है तो क्या यह सिर्फ बातों और कागजों में ही सीमित है या असल में भी ऐसा कुछ हो रहा है, बताया जा रहा है शहर के भोज मार्ग, दिलीप गेट, पुलिस लाइन चौराहा, शिवगंगा चौराहा, कैलाश मार्ग, हुसैनी चौक, बस स्टैंड, पुरानी हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी, और बाड़कुआँ क्षेत्र में अवैध ड्रग्स मिलना माचिस की डिब्बी मिलने जितना आसान है, हर क्षेत्र के पांच – छः युवकों की एक गैंग है जो अपने अपने क्षेत्र में यह व्यवसाय करती है, हर और नशे का यह काला कारोबार फल – फूल रहा है, लेकिन शायद पुलिस अभी सोशल पुलिसिंग और मंत्रीयों के दौरे में व्यस्त है।
परसों रात भी ऐसे ही कुछ नशेड़ी युवकों द्वारा एक युवक के साथ बर्बरता से मारपीट की गई थी, हथियार की नोक पर उसके वीडियो बनाए गए थे, अर्नगल आरोप लगा कर उससे वो सब कबूल करवाया गया था जो उसने किया ही नहीं था, लेकिन चर्चा यह है की मारपीट करने वाले युवकों पर किसी बड़े साहेब का वरदहस्त है इसलिए उन पर कार्रवाई अभी के लिए तो टाल दी गई है, हो सकता है पुलिस अधीक्षक झाबुआ के संज्ञान में आने के बाद पीड़ित युवक एवं उसके परिवार को न्याय मिले.. ।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here