ठेकेदार की गलती का खामियाजा भुगत रहे रोड के पास रहने वाले रहवासी

0
452

भूपेन्द्रसिंह नायक, पिटोल
मारुति,कंस्ट्रक्शन कंपनी अहमदाबाद द्वारा 365 लाख की लागत से बनाया गया छोटी पिटोल बाईपास रोड से पुराने आरटीओ तक जोडऩे वाला डामर रोड गुणवत्ता विहीन बना हुआ है। वहीं ठेकेदार द्वारा रोड के अंतर्गत बने नाले व्यवस्थित ढाल एवं पानी की समुचित निकासी के हिसाब से ही नहीं बनाए। इसी वजह से रात्रि में भारी बारिश की से नाले का पानी रोड के पास बने घरों में भरा गया जिससे घर की स्थिति तालाब जैसी निर्मित हो गई नई कॉलोनी में रहने वाले मगजी पिता बोडाराम पडियार के घर के पास बने नाले का पानी कि आगे निकासी नहीं होने कारण नाले का पानी मगजी के घर में भरा जाने से घर में रखे सामान का भारी नुकसान हुआ है। कूलर घरेलू सामान पानी मैं तेरेने लगे तेज बारिश के पानी के घर की खिड़की के अंदर से भरा गया, जिससे मगजी का परिवार रात भर परेशान रहा वहीं उसके घर के चारों तरफ अभी भी पानी भरा हुआ है जब रोड बना तब भी इस त्रुटि के लिए ठेकेदार को अवगत कराया गया तब भी ठेकेदार ने एक भी नहीं सुनी जिसका खामियाजा रोड के पास रहने वाले रहवासी भोग रहे हैं।
रोड के दोनों तरफ नाली बनाना चित्र बनाई एक तरफ
जब रोड का निर्माण हुआ तब रोड के दोनों तरफ नाली बनाने का ठेकेदार द्वारा कहा गया था एवं रोड के दोनों तरफ लोगों ने नाली के अंदर बाधक बन रहे और लोगों क पक्के ओटलों तोड़ा गया जो आज भी टूटे हुए हालत में लोग अभी भी इस आस में लगाये रखे हैं कि नाली बनेगी परंतु ठेकेदार द्वारा एक तरफ नाली बनाई कर इतिश्री कर ली गई। वह भी गुणवत्ता विहीन और असंतुलित जिसकी वजह से रोड के पास रहने वाले दोनों तरफ के लोग परेशान हो रहे हैं। क्योंकि नाली के ऊपर रखे हुए सीमेंट के ब्लॉक घटिया स्तर से बनाए हुए हैं और नाली के ऊपर जगह.जगह से टूट रहे हैं जिसकी वजह से भी काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।
ठेकेदार के आगे नतमस्तक हो गया लोक निर्माण विभाग
लोक निर्माण विभाग के अधिकारी जब भी रोड बन रहा था तब मौका मुआयना के लिए पिटोल आते थे, तब पिटोल के जागरूक नागरिक विभाग के अधिकारियों को ठेकेदार की गुणवत्ता विहीन रोड नालियों के बारे में अवगत कराते थे परंतु उस वक्त तो दिखावे के लिए अधिकारी ठेकेदार को चेतावनी देते थे परंतु उनके जाने के बाद वही स्थिति ठेकेदार द्वारा निर्मित कर दी जाती थी। क्योंकि रोड का टेंडर लोक निर्माण विभाग धार द्वारा किया गया था और देखरेख लोक निर्माण विभाग झाबुआ द्वारा की गई थी रोड के अंदर नाले के पाइप भी पूरी तरह से टूटे हुए डाले गए हैं।
कहीं भी मेरी शिकायत करो मैं नहीं डरता
जब ठेकेदार द्वारा अपनी मनमर्जी मनमानी से रोड बनाया जा रहा था तब भी कई बार पिटोल की जनता ने काम की गुणवत्ता को लेकर ठेकेदार से बहुस की परंतु ठेकेदार इतना दबंग कि वह कहता था कि चाहे मुख्यमंत्री से मेरी शिकायत करो या कलेक्टर से मैं किसी से नहीं डरता मुझे जो काम करना है , मैं वही करूंगा।

पीडि़त की व्यथा
अभी तो बरसात का शुरुआती दौर का पानी गिरा है और हमारे घर की हालत यह है अगर रोड के मेरे घर साइड में नाली नहीं बनी तो सारी बरसात हमें ऐसे ही परेशान होना पड़ेगा। अब हम सिर्फ कलेक्टर से आग लगाकर बैठे कि इस समस्या का निदान करवाएं।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here