सामाजिक सेवा के तौर पर स्थापित हुआ फुटतालाब का महोत्सव

भजनों की सुरीली शाम से हुआ आयोजन का गौरवशाली समापन

आयोजक सुरेशचंद्र जैन का स्वागत करते क्षेत्र के युवा।
आयोजक सुरेशचंद्र जैन का स्वागत करते क्षेत्र के युवा।

झाबुआ लाइव के लिए मेघनगर से भूपेंद्र बरमंडलिया की रिपोर्ट- मध्यप्रदेश के प्रसिद्ध तीर्थ स्थल वनेश्वर मारूती नंदन हनुमान मंदिर पर श्रीराम नवमी से हनुमान जयंती तक एक लाख से अधिक लोगों ने अपनी असंख्य पलकों के रतजगे से भक्ति भाव के स्थाई दृश्यों को प्रदेश के मानस पटल पर उंकेर दिया। 15 अप्रैल को विशाल कलशयात्रा के रूप में आगाज के साथ शुरू हुए सात दिवसीय धार्मिक आयोजन का भजनों से सजी सुरीली शाम के साथ शुक्रवार रात्री समापन हुआ। कई मायनों में अदभूत, अलौकिक व अविस्मरणीय रहे इस आयोजन मे पिछले सात दिनों में एक से बढ़ एक प्रस्तुतियों ने इस कार्यक्रम को लाखों लोगों के मध्य हदयस्थ कर दिया। गरिमामय कार्यक्रम मे प्रतिदिन महिलाओं की ऐतिहासिक उपस्थित ने जंहा नया इतिहास रचा वंही सभी कार्यक्रमों में हजारों की संख्या में पंहुची श्रद्धालुओं की भीड व सैकड़ों की तादाद में पंहुची साधु संतों की संख्या ने कार्यक्रम की सफलता पर मुहर लगाते हुए इसे मध्यप्रदेश का गौरवशाली आयोजन बना दिया।
सामाजिक सेवा के तौर पर स्थापित
एक मंच जहां पक्ष-विपक्ष एक साथ बैठे दिखाई देते है, एक मंच जहां शासन प्रशासन एक साथ नजर आते है, एक मंच जंहा सभी धर्र्मों के लोग एकजुट होकर कार्यक्रम का आनंद लेते है, एक मंच जंहा देश विदेशों में ख्याति प्राप्त कलाकार अपनी श्रेष्ठ प्रस्तुतियों से लोगों के दिलों मे अमिट छाप छोड़ते है, वह मंच पिछले ऐतिहासिक सात दिनों के लिए जुटा था। झाबुआ जिले की मेघनगर तहसील के छोटे से गांव फुटतालाब में। अवसर था वनेश्वर मारूति नंदन कुटीर हनुमान मंदिर समिति के संयोजन में सतत छठवें वर्ष गणेशजी, महालक्ष्मीजी, महासरस्वती, अंबेमाताकी प्राण प्रतिष्ठा की षष्ठम वर्षगांठ पर आयोजित कार्यक्रम का। मप्र के गौरवशाली आयोजनों मे शुमार उक्त सात दिवसीय धार्मिक आयङ्क्षजन में शासन प्रशासन, समस्त राजनीतिक दलों के नेतागण, पत्रकारगण, ख्याति प्राप्त साधु संतों सहित लाखों लोगों की उपस्थिति ने आयोजन को दलगत राजनीति व धर्म से उपर उठाकर एक श्रेष्ठ आयोजन के तौर पर अंकित कर लोकप्रियता के सर्वोच्च शिखर पर स्थापित कर दिया। वहीं कार्यक्रम के आयोजक सुरेशचंद्र जैन (पप्पू भैया) को भी कार्यक्रम में पहुंचे लाखों श्रद्धालुओं ने अपनी अभिव्यक्ति से राजनीति, व्वसायिक व अन्य उपमाओं से परे प्रदेश के मुर्घन्य समाजसेवी के रूप में संस्थापित किया।
धूमधाम से मनी हनुमान जयंती
वनेश्वर मारूति हनुमान मंदिर कुटिर फ्ुटतालाब में हनुमान जयंती धार्मिक उल्लास व अपार श्रद्धालुओं की उपस्थिति में धूम धाम से मनाई गई। हनुमान जयंती पर हनुमान जी कि खडी प्रतिमा का चौला चढ़ाकर एसा श्रंृगार किया गया कि यंहा आने वाले श्रद्धालु हनुमान जी की प्रतिमा को अपने मोबाईल मं सहेजने में जुट गए। दोपहर में महाआरती उतारी गई तो मंदिर परिसर केसरी नंदन, बजरंग बली के जयकारों से गूंज उठा। आरती पश्चात भंडारे का आयोजन भी किया गया। मंदिर में दिर भर दर्शनार्थियों का तांता लगा रहा। रामदास त्यागी (टाट वाले बाबा), मंदिर महंत मुकेशदासजी महाराज के चरण वंदन हेतु भी श्रद्धालु आतुर दिखाई दिए। मंदिर परिसर के सामने लगे मेले का लोगों नें आनंद लिया। वही आयोजित भंडारे मे भी हजारों श्रद्धालुओं ने प्रसादी ग्रहण की।
आपके अपार स्नेह पर नतमस्तक है हम –

साधना सरगम का स्वागत करती श्रीमती जैन।
साधना सरगम का स्वागत करती श्रीमती जैन।

पिछले सात दिनों से लाखों की संख्या मे उपस्थित होकर कार्यक्रम को सफल बनाने वाले श्रद्धालुओं सहित कार्यक्रम में सहयोग देने वाले सहयोगियों, माइक, टेंट, विद्युत व्यवस्था वालों व सुरक्षा में तैनात पुलिस जवानों, सफल संचालन करने वाले मनीष गिरधाणी व भोजन शाला में सहयोग देने वाले अगराल के ग्रामवासियों सहित कार्यक्रम में अपना सहयोग प्रदान करने वालों का आभार व्यक्त करते हुए आयोजक जैन ने कहा कि आप सभी से मिले अपार स्नेह, प्रेम व वात्सल्य से हम अभिभूत है व आपकी उपस्थिति पर नतमस्तक है। आयोजक जैन ने मंच से कार्यक्रम के शिल्पी अपने छोटे भाई राजेश रिंकु जैन का कार्यक्रम के प्रति समर्पण व समस्त सेवाएं जुटाने हेतु आभार प्रकट किया व मंच से देशवासियों को हनुमान जयंती की शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर पप्पू भैया फैंस क्लब के युवा साथियों ने आयङ्क्षजन की सफ्लता पर जैन का पुष्पमाला व शॉल श्रीफल द्वारा सम्मान किया।
समापन पर आंखे हुई नम –
पिछले सात दिनों तक प्रतिदिन अपनी उपस्थिती से कार्यक्रम को नई उंचाइयां देने वाले हजारों श्रद्धालु की आंखें भी कार्यक्रम के इस समापन अवसर पर नम दिखाई दी। वहीं कार्यक्रम को अपने अपने आतिथ्य से सींचकर नई पे्ररणा स्थापित करने वाले जैन परिवार के सदस्य भी कार्यक्रम के समापन पर भाव विभोर दिखाई दिए। क्षेत्र सहित आसपास के प्रदेशों से आए करीब 20 हजार लोगों ने कार्यक्रम के अंतिम दिन हिंदी सिनेमा जगत की सुप्रसिद्ध कलाकार साधना सरगम मुंबई व कई कलाकारों से सजी भजन संध्या का आनंद लिया। वंही कार्यक्रम के अंतिम दिन मेला क्षेत्र में भी ना समाने वाली अपार भीड़ जुटी। मंदिर परिसर के चारों ओर दोपहिया व चार पहिया वाहनों की कतारें लगी रही।