फुटतालाब में श्रीकृष्ण जन्मोत्सव में मदमस्त हुए धर्मावलंबी

12 13 मेघनगर। कूलर की शीतल हवा व गुलाब जल की सुगंधित फुहारों युक्त श्वेत धवल पांडाल में सहज, भोली व बाल मुस्कान के साथ भागवत मर्मज्ञ जया किशोरी के कोकील स्वरों ने भरी दोपहरी में भक्तों को शीतलता प्रदान की। वहीं उन्होंने सभी से सच्चे मन से दूसरों की आवश्यकता में दान देने की अपील की। अवसर था, प्रदेश की तपोभूमि फुटतालाब पर वनेश्वर मारूति नंदन हनुमान मंदिर प्रांगण में महोत्सव की छठवीं वर्षगांठ के पांचवे दिन, धार्मिक समागम का। बोलो हरिनारायण हरि हरि से श्रीमद भागवत कथा ने श्रीराम जन्म कथा के बाद श्रीकृष्ण के बाल रुप में प्रवेश किया। आल्हादित जन श्रीकृष्ण लीला में डूब गए। वासुदेव द्वारा श्रीकृश्ण को यमुना के बीच से ले जाने के दृष्य का मनमोहक वर्णन किया गया। हजारों भक्तों के आगमन को देखते हुए श्रीमद भागवत कथा स्थल को शिल्पकार रिंकू जैन और सहयोगियों द्वारा भव्य और सुसज्जित स्वरूप दिया गया है।
अग्निहोत्री बंधुओ ने दी भजनों की प्रस्तुति
15रामकथा व धार्मिक भजनों की प्रस्तुति देते आ रहे अग्निहोत्री बंधुओं ने सोमवार रात्रि में श्रोताओं को अभिभूत कर दिया। ओम नमो शिवाय, जिनके मन में सदा विराजे राम लखन जानकी, जय बोलो हनुमान की। मेरे पास है खजाना अनमोल, राम सीता सीता राम बोल आदि भजनों की समधुर संगीत लहरी जब साज के साथ शीतल मंद समीर के बीच फुटतालाब में जमीं तो श्रोता अपलक अविराम तीन घंटे तक भक्ति रस में डूबे रहे।
20 को यह होंगे आयोजन
फुटतालाब में बुधवार को प्रात: 10.30 से 1.30 तक जया किशोरी के मुखारविंद से श्रीमद भागवत कथा। दोपहर में 3 से 6 तक भंडारा व मेला। रात्रि में श्रीराम व सीता के स्वयंवर का भारतीय कला संस्थान मथुरा, वृंदावन द्वारा मंचन किया जाएगा। वहींसुरेश चन्द्र जैन और मंदिर समिति ने प्रतिदिन होने वाले भंडारे का लाभ लेने की अपील भक्तों से की है।