धार्मिक संस्कृति का महापर्व बना फुटतालाब का नवरात्रि महोत्सव

7 2 3 4 5 6झाबुआ। नवरात्रि के अंतिम दिन प्रदेश के प्रसिद्ध तीर्थ स्थल फुटतालाब पर ‘‘लघु कुंभ’’ सा नजारा देखने को मिला। रात के लगभग 2 बजे तक मंच तथा पांडाल खचाखच भरा रहा। हर कोई कलाकारों की भावभंगिमा, परिधानों और गाये गये गरबों से आकर्षित नजर आ रहा था। सुरेशचंद्र पुरणमल जैन एवं रिंकु जैन ने मंच के माध्यम से उपस्थित जनसमुदाय से पिछले पांच सालों से आयोजन को समर्थन, लोकप्रियता और इसे लाखों दिलों में स्थाई रूप से बसाने के लिये आभार व्यक्त किया। अंतिम दिन सुबह 5 बजे तक प्रदेष के इस अनुपम और विशालकय आयोजन में आस्था के कलश छलकते रहे। देर रात तक भारत के बड़े गरबा गायकों में से एक अपूर्व शाह और शीतल मेहता को लोग सुनते रहे। हालात यह बन गये कि रोज के अपने निर्धारित समय से भी अधिक समय तक उन्हें अपनी प्रस्तुतियां देने के लिए मजबूर होना पड़ा। आखिर के दिनों में यहां के गरबोत्सव में उमड़ती भारी भीड़ के दृश्यों ने लघु कुंभ का अहसास करवा दिया। आयोजन की लोकप्रियता और असंख्य लोगों के इसके प्रति जुड़ाव को लोगों की अनुशासित उपस्थिति से यहां आकर अहसास किया जा सकता हैं। इस आयोजन मे प्रदेश में बड़े बड़े आयोजन करवाने वाले लोगों के लिए नई चुनौती पेश की है। राजनीतिक दलों के सभी प्रतिनिधियों ने अपने परिवार की ओर से श्री जैन को इतना बड़ा आयोजन करवाकर जिले में ही गुजरात को टक्कर देने वाली प्रतिभाओं को तराशने के लिए आभार व्यक्त किया है। गोरतलब है कि कार्यक्रम में सबसे ज्यादा ध्यान क्षेत्रीय ग्रामीण परंपराओं को तराशने के लिये दिया जाता है। पिछले 5 सालों में फुटतालाब के गरबोत्सव ने गरबों की विभिन्न मुद्राओं में गरबा करने की ग्रामीण कोशिशो की महानगरों के बराबर खड़ा कर दिया है। पिछले 5 सालों से लोग दाहोद, बड़ौदा और अहमदाबाद को भुलकर फुटतालाब में गरबों को देखने आने लगे है। मेघनगर के साईगु्रप ने आयोजन के नोवे दिन राम, लक्ष्मण और रामभक्त हनुमान की झांकी का जीवंत और प्रभावशाली प्रदर्शन किया। बाहर से आये अतिथियों ने जानकारी दी कि उन्हें यहां पर काफी सम्मान और आदर मिलता है। साथ ही भारत की विभिन्न धार्मिक संस्कृतियों को उत्कृष्ट कलाकारों के माध्यम से क्रियान्वित होते देखने भी इस आयेाजन के बिना संभव नहीं है। गोरतलब है कि फुटतालाब में प्रतिवर्ष रामनवमी से लेकर हनुमान जंयती तक भी राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय के सांस्कृतिक और धार्मिक आयोजन किये जाते है, जिसे पूरे प्रदेश में सराहना मिलती है।
अतिथियों ने की प्रषंसा
सीसीबी के थांदला के पूर्व चेयरमैन गोरसिंह वसुनिया, विधायक रतनसिंह भाबर, कांग्रेस के युवा नेता जसवंतसिंह भाबर, नगर परिषद अध्यक्ष थांदला सुनीता पूनमचंद वसावा, वरिष्ठ समाजसेवी और आयोजन के पारिवारिक सदस्य राजेन्द्र नायक, युवा नेता पूनमचंदजी, थांदला विपणन के अध्यक्ष फकीरचंद राठोड, सकल व्यापारी संघ के निर्मल अग्रवाल, राजेन्द्र यादव। पूर्व विधायक रतनसिंह भाबर ने अपने परिवार के साथ मां की महाआरती की। इस दौरान जिला पत्रकार कल्याण परिषद् के पदाधिकारी भी उपस्थि थे। पत्रकारों में विषेष रूप से प्रकाश भण्डारी, सलीम शैरानी, निसार उपस्थित थे। शंकर मंदिर गरबा मण्डल के अध्यक्ष दिलीप देवाणा, उपाध्यक्ष अशोक बंधु एवं सारे सदस्य उपस्थित थे। मुख्य अतिथियों का स्वागत सुरेशचंद जैन एवं उनके पूरे परिवार ने किया। साथ ही मंच के माध्यम से प्रदेश मे समाज सेवा के शिखर पुरूष श्री सुरेशचंद्र जैन एवं रिंकु जैन ने मंच के माध्यम से नगर, जिले एवं प्रदेश के सभी लोगों को नवरात्रि एवं विजयादशमी की बधाई दी तथा आयोजन को अपार लाड़ और दुलार देने के लिए सभी का आभार माना। यहां पहुंचे अतिथियों ने आयोजन में लोगो को मिलने वाले आदर, सम्मान और अपनत्व की भावना की सराहना की।