जिला कांग्रेस की बैठक संपन्न

May

6 6 (1)झाबुआ। स्थानीय जिला कांग्रेस कमेटी कार्यालय पर शुक्रवार को प्रातः 11.30 बजे से जिला कांग्रेस द्वारा कांग्रेस पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं की विशेष बैठक का आयोजन किया गया। इस बैठक के मुख्य अतिथि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष व पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरूण यादव, विशेष अतिथि अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सचिव व मध्यप्रदेश कांग्रेस के सहप्रभारी राकेश कालिया थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं पूर्व सांसद कांतिलाल भूरिया ने की। सर्वप्रथम अतिथियो एवं कांग्रेस पदाधिकारियों द्वारा महात्मागांधी के चित्र पर माल्यार्पण कर दीप प्रज्वलित किया गया। इस अवसर पर बैठक को संबोधित करते हुए अरूण यादव ने कहा कि आज पूरे प्रदेश में कम वर्षा के कारण सूखे की नोबत आ गई है तथा कई किसानों की फसले बर्बाद हो चुकी है किंतु मुख्यमंत्री एवं देश के मुखिया प्रधानमंत्री विदेशों में जाकर वहां की चकाचोंध देखने में लगे हुए है तथा उन्हें प्रदेश के गरीब किसानों की बिल्कुल भी चिंता नहीं है वे विदेशा मे जाकर जनता के पैसे का दुरुपयोग का तो कर रहे है किंतु प्रदेश के किसानो की दुर्दशा सुधारने के लिए उनके पास रुपए नहीं है। आए दिन किसान कर्ज में डूबा होने के कारण आत्महत्या करने को मजबूर हो रहा है किंतु इस गुंगी-बहरी सरकार पर कोई असर नहीं हो रहा है।
27 दिन बाद भी ब्लास्ट का मुख्य आरोपी पुलिस गिरफ्त से दूर
उन्होने पेटलावद ब्लास्ट का जिक्र करते हुए कहा कि पेटलावद की घटना को घटित हुए करीब 27 दिन बीत चुकें है किंतु इस ब्लास्ट का मुख्य आरोपी अभी भी मध्यप्रदेश पुलिस की गिरफत से बाहर है। यह ब्लास्ट के आरोपी का गिरफतार ना होना प्रदेश सरकार एवं प्रशासन की गोल-मोल नीति का ही परिणाम है। ज्ञातव्य है कि ब्लास्ट का मुख्य आरोपी राजेन्द्र कासवा आरएसएस का पदाधिकारी था तथा उसके परिवार के अन्य सदस्य भी भाजपा से जुडे होने के कारण पुलिस उन पर कोई ठोस कार्यवाही नही कर रही है। कासवा का गिरफ्तार न होना कई संदेहांे को जन्म देता है। प्रदेश की आर्थिक व्यवस्था चरमरा सी गई है। नोजवान बेरोजगार होकर इधर-उधर भटकने को मजबूर है। उन्होने कहा कि झाबुआ जिले में भी सूखे की स्थिति बन रही है। अखिल भारतीय कांग्रेस पार्टी के सचिव एवं प्रदेश के सहप्रभारी राकेश कालिया ने कहा कि कांतिलाल भूरिया को देश के आदिवासी नेता बनाया है उन्हें इस लोकसभा चुनाव में टिकट मिलने पर आप उन्हें पुरी ताकत से जिता कर एक नया इतिहास बनाना है। आप लोग ने पहले भी भुरिया जी को जिता कर दिल्ली भेजा था उन्होने इस क्षेत्र के विकास के लिए अनेक कार्य किए है। हम और आप मिलकर इस बार आने वाले लोकसभा उपचुनाव में कांग्रेस को भारी बहुमत से जिता कर भाजपा को मुंह तोड जवाब देंगे।
कांतिलाल भूरिया ने अरूण यादव एवं राकेश कालिया के झाबुआ आगमन पर उनका स्वागत करते हुए कहा कि आज झाबुआ जिला पेटलावद ब्लास्ट में करीब 150 से अधिक लोग मारे गए है और करीब 200 से अधिक लोग घायल हुए हैं। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री ने पहले तो दो लाख की घोषण की फिर 5 लाख की घोषणा की जब हमने दबाव बनाया तो उन्होने दस लाख की घोषणा की किंतु भोपाल पहंुच कर उन्होने मृतक के परिवार को 5 लाख रूपये ही दिए। उन्होने मृतक के परिवार को पहले 1 लाख रूपये ही दिये फिर बाद में 4 लाख रूपये बाद मे देने का वादा किया। यह मृतक परिवार के साथ अन्याय नहीं है तो और क्या है। मुख्यमंत्री ने घायलों के साथ भी ऐसा ही व्यवहार किया है। उन्होने घायलो को ना तो पर्याप्त राशि दी और ना ही बाद में उनके कुशल-क्षेम की जानकारी प्राप्त की। आज जिलें में चारों और कम वर्षा के कारण सुखे की नौबत आ चुकी है किंतु प्रदेश सरकार एवं प्रशासन ने इस और बिल्कुल भी ध्यान नहीं दिया है। मुख्यमंत्री ने लोकसभा उपचुनाव होने के कारण घोषणाएं तो कई कर दी है किंतु उन घोषणाओं को पुरा करने के लिए पर्याप्त पैसा ही नहीं आया। केवल घोषणा करने से ही विकास नहीं होता है विकास केवल धरातल पर ही दिखाई दे रहा है वह कांग्रेस की ही देने है। आज प्रदेश एवं जिले का नौजवान बैरोजगार घुम रहा है। व्यापम घोटाले ने तो युवाओं के भविष्य को अंधकार मे धकेल दिया है।
स्वास्थ्य मंत्री झाबुआ हफ्ता वसूली के लिए आए – भूरिया

जिला पंचायत अध्यक्ष कलावती भूरिया ने कहा कि मध्यप्रदेश भाजपा अध्यक्ष, स्वास्थय मंत्री नरोत्तम मिश्रा के साथ हेलीकाॅप्टर से झाबुआ आए तथा पार्टी की बैठको मे भाग लिया। आज पूरा झाबुआ जिला मलेरिया से ग्रसित हो रहा है तथा कई जगह तो डेंगू जैसे भयानक रोग ने भी पैर पसारने शुरू कर दिये है किंतु स्वास्थय मंत्री ने इस और कोई भी ध्यान नही दिया। मीडिया द्वारा ध्यान दिलाए जाने पर भी उन्होने कोई जवाब नहीं दिया। वे तो यहां भाजपा संगठन की मीटिंग के माध्यम से हफ्ता वसूली के लिए आए थे तथा पैसे बटोर कर चले गए एवं हमारे नेताओं पर झूठे आरोप लगाकर अपनी बोखलाहट को भी उजागर कर गए। पंचायती राज मंे सरपंचों के अधिकार छीन लिए गए। सरपंच आज खाली हाथ बैठा है तथा ग्रामीण क्षेत्रों का विकास रूक सा गया है। प्रदेश एवं जिले में सुखे की स्थिति से हाहाकार मचा हुआ है। उन्होने अरूण यादवजी से उच्च स्तर पर इस मुददे की गंभीरता को देखते हुए लडाई लडने की बात कही है। इस अवसर पर पूर्व विधायक रतन सिंह भाबर, वीरसिंह भुरिया, जेवियर मेडा, वालसिंह मेडा, गंगाबाई बारिया, सेवादल संगठक राजेश भटट, किसान कांग्रेस अध्यक्ष नंदलाल मेड, जिला पंचायत सदस्य रूपसिंह डामोर, ब्लाॅक कांग्रेस अध्यक्ष गंेदाल डामोर, कैलाश डामोर आदि ने भी अपने-अपने विचार रखते हुए केन्द्र एवं प्रदेश की भाजपा सरकार को आडे हाथों लिया तथा आने वाले उपचुनाव में कांग्रेस को भारी बहुमत से विजय बनाने का वादा भी किया।