श्रावण मास के अंतिम सोमवार को कस्बे में गमगीन माहौल होने से नहीं निकली सवारी, मंदिर में भक्तों ने आरती कर प्रसादी वितरित की

0
72

मयंक विश्वकर्मा, आम्बुआ

 श्रावण मास का पवित्र माह बीतने जा रहा है जिसके अंतिम सोमवार को अनेक स्थानों पर भूत-भावन भोलेनाथ की शाही सवारी निकली गई आम्बुआ में भी प्रतिवर्ष सवारी निकाली जाती है । मगर इस वर्ष एक शिव भक्त के परिवार में महिला की मृत्यु के कारण कस्बे में शोक छाया होने के कारण शाही सवारी का आयोजन निरस्त किया गया परंतु शिव मंदिर में संध्या आरती की जाकर प्रसादी वितरित की गई रामायण मंडल तथा सुंदरकांड मंडल ने के सदस्य के परिवार में गम होने के कारण कार्यक्रम निरस्त किया गया। हमारे संवाददाता के अनुसार श्रावण मास के पवित्र माह में पूरे माह शिव जी की पूजा-अर्चना का विधान है माह में पड़ने वाले प्रत्येक सोमवार को विशेष पूजा-अर्चना तथा आरती की जाती है तथा अंतिम सोमवार को शिव जी की शाही सवारी निकाली जाती है। इस बार 11 अगस्त की रात रामायण मंडल सदस्य नंदलाल राठौड़ की पत्नी तथा ओच्छवलाल एवं गोविंद राठौड़ की भाभी का निधन हो गया था 12 अगस्त सोमवार को उनकी अंत्येष्टि की जाने के कारण पूरा परिवार तथा कस्बा शोक ग्रस्त होने के कारण शाही सवारी का कार्यक्रम निरस्त किया जाकर रात्रि कालीन आरती की जाकर प्रसादी वितरित की गई जिसका लाभ सैकड़ों महिला पुरुषों एवं बच्चों ने उठाया।