विधायक पटेल ने कैबिनेट मंत्री दत्तीगांव और कलेक्टर को पत्र भेजकर दिए सुझाव : जिला प्रशासन ने आईसीयू, वेंटिलेटर और सीटी स्कैन शुरू करने का तीव्रता से करे प्रयास

0
236

 फिरोज खान@ अलीराजपुर
जिले में आम जन को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध करवाने और स्वास्थ्य सेवाओं की व्यवस्था दुरूस्त करने के लिए जिला प्रशासन प्रभावी कार्ययोजना बनाएं और उसे अमल में लाएं। जिससे जिले के लोगों को कोरोना महामारी के इस संकटकाल में बेहतर इलाज के लिए इधर उधर भटकने के लिए मजबूर नहीं होना पडे। ये बात विधायक मुकेश पटेल ने रविवार को एक प्रेस विज्ञप्ति में कही। उन्होने कैबिनेट मंत्री राजवर्धनसिंह दत्तीगांव और कलेक्टर सुरभि गुप्ता को पत्र लिखकर सुझाव भेजकर आईसीयू, वेंटिलेटर और सीटी स्कैन शुरू करने का तीव्रता से प्रयास कर स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर करने का आग्रह किया।
विधायक पटेल ने भेजे गए पत्र में बताया कि कोविड-19 कोरोना महामारी के चलते जिले में ऐसे प्रैक्टिस करने वाले मान्यता प्राप्त जनरल प्रैक्टिसनर, मेडिसिन, आयुष विभाग के डाॅक्टर्स, होम्योपेथिक, एलोपेथिक और शासन से मान्यता प्राप्त क्लिनिक संचालक आदि के सहयोग से घर घर जाकर विडियो काॅल या फोन पर परामर्श देने के लिए प्रशासकीय व्यवस्था करवाई जाए। इस प्रकार की व्यवस्था इंदौर जिले में कलेक्टर द्वारा लागू की जा चुकी है।
उन्होने कहा कि कोरोना महामारी की इस विकराल स्थिति को देखते हुए जिले में शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र में अधिकांश लोग बुखार, खांसी, मलेरिया, टायफाइड आदि से ग्रसित होकर कोरोना महामारी के चलते डर के कारण अस्पताल जाकर ना ही जांच करा रहें है और ना ही उपचार ले पा रहे है। जिसके कारण कई लोग अधिक बीमार पर बीमार होते जा रहे है। ऐसी स्थिति को देखते हुए जिले में प्रैक्टिस करने वाले मान्यता प्राप्त जनरल प्रैक्टिसनर, मेडिसिन, आयुष विभाग के डाॅक्टर्स, होम्योपेथिक, एलोपेथिक और शासन से मान्यता प्राप्त क्लिनिक संचालक आदि को शामिल कर एक स्वास्थ्य परामर्श टीम बनाई जाए। टीम के सभी परामर्श दाताओं के संपर्क नम्बरों को सार्वजनिक रूप से अवगत कराएं ताकि मरीज सीधे परामर्शदाता से संपर्क कर सके। साथ ही मरीज को यह सलाह भी देकर प्रेरित करे कि आपको कोविड की जांच कराना आवश्यक है आप इससें डरे नहीं। परामर्शदाता वतर्मान कोरोना त्रासदी में किसी भी श्रेणी के मरीजों को जिसमें कोविड भी शामिल है, घर जाकर, विडियों काॅल पर अथवा फोन पर परामर्श दे सके। साथ ही इसके लिए परामर्श शुल्क भी नियत किया जाए। यदि कोई मरीज परामर्श शुल्क देने में असमर्थ है तो उससें शुल्क नहीं लिया जाए उसका शुल्क मेरे द्वारा दिया जाएगा।
ऑक्सीजन और रेमडेसिविर की व्यवस्था सुचारू रखने की जरूरत
विधायक पटेल ने कहा कि प्रदेश के कई शहरों और अन्य राज्यों में ऑक्सीजन सिलेंडर और रेमडेसिविर सहित कुछ जीवनरक्षक दवाईयों व उपकरणों की अनुपलब्धता हो रही है। जिसके कारण मरीजों को समय पर इलाज नहीं मिल पा रहा है और कई मरीज असमय मौत के शिकार भी हो गए है। जिसकी खबरे आए दिन मीडिया के माध्यम से लगातार सामाने आ रही है। ऐसी स्थिति में जिले में ऑक्सीजन सिलेंडर और ऑक्सीजन तथा रेमडेसिविर की व्यवस्था का पूर्व आंकलन कर प्रदेश सरकार को आवश्यक डिमांड के संबंध में तत्काल पत्र भेजकर इनकी पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करवाई जाए। ताकि आपातकालीन स्थिति में किसी भी मरीज को परेशानियों का सामना नहीं करना पडे।
आईसीयू, वेंटिलेटर और सीटी स्कैन शुरू करने का तीव्रता से करे प्रयास
विधायक पटेल ने कहा कि जिला प्रशासन द्वारा जिला अस्पताल में आपातकालीन सेवा से संबंधित आईसीयू, वेंटिलेटर और सीटी स्कैन सेवा शुरू करने के संबंध में आ रही दिक्क्तों के संबंध में राज्य स्तर पर वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराकर तीव्रता से ये आपातकालीन सुविधाएं शुरू करवाने के प्रयास निरंतर करना होंगे। उन्होने जिले के कोविड प्रभारी मंत्री दत्तीगांव, सांसद गुमानसिंह डावर सहित सभी दलों के जनप्रतिनिधियों से इसके लिए प्रयास कर ये स्वास्थ्य सेवाएं शीघ्र शुरू करवाने में सहयोग करने की अपील की।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here