डीजे का सामान चुराने वाले चार बदमाशों को पुलिस ने वारदात के 24 घंटे के अंदर पकड़ा

0
2632

आलीराजपुर। दिनांक॑ 25-26  मई की रात्री मे ग्राम बडी खट्टाली का दुलेसिहं डावर के घर के बाहर वाहन मे रखा डीजे सामान अज्ञात बदमाश चुराकर ले गए थे। फरियादी की रिपोर्ट पर से थाना जोबट पर अपराध क्रमांक 281/22 धारा 380 भादवि का पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया था। 

पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार सिहं के द्वारा बताया कि जिले मे चोरी के अपराधो मे कमी लाये जाने हेतु मुखबिर तत्रं को मजबुत कर चोरी की वारदातो का पता लगाने हेतु कार्य योजना बनाई गई। इसी क्रम में जोबट पुलिस को मुखबिर सुचना प्राप्त हुई थी कि एक पिकअप वाहन धुदलवाट मसनी तरफ से चोरी का डीजे सामान बेचने के लिये अलीराजपुर के रास्ते से गुजरात जाने वाला है। सूचना मिलने पर तत्काल पुलिस टीम ने घेराबंदी कर खंडाला रोड से पिकअप वाहन एमपी.69.जी.0782 को रोककर ड्रायवर का नाम पता पूछने पर वेस्ता पिता कना सोलंकी उम्र 24 वर्ष निवासी धुदलवाट का रहना बताया। पिकअप वाहन के अदंर चेक करते पिकअप मे डीजे सामान व तीन अन्य संदेही मिले, जिन्होंने पूछताछ मे अपना नाम मुकेश पिता हीरला जमरा उम्र 23 वर्ष निवासी ग्राम मसनी,  जितेन्द्र पिता ढुड़ आवर उम्र 29 वर्ष निवासी प्रतासवा व सरदार पिता रेमसिह डूडवे उम्र 19 वर्ष निवासी ग्राम नीमथल का रहना बताया। पिकअप मे रखे डीजे वाहन के बारे में संतोषजनक उत्तर नहीं देने पर चारो संदेहियों को मय पिक अप वाहन के अभिरक्षा मे लेकर चोकी पर आए पूछताछ मे चारो सदेहीयो ने मिलकर बडी खट्टाली का दुलेसिहं डुडवे का डीजे सामान 4 बैस (स्पीकर) मय बाक्स, एम्पलीफार 2 नग , मिक्सर,1 नग, स्टेपलाईजर 1 नग चुराना बताया । चारो की निशादेही से उक्त डीजे सामान कीमती करीब 4 लाख 33 हजार रुपय व अपराध मे प्रयुक्त पिकअप वाहन कीमती 4 लाख 75 हजार रुपय कुल कीमती 9 लाख 8 हजार रुपय का मश्रुका जब्त करने मे पुलिस को सफलता मिली है। बदमाशों से अन्य अपराधो मे पूछताछ करने हेतु न्यायालय पेश कर पुलिस रिमाण्ड लिया गया है।

कार्रवाई पुलिस अधीक्षक के निर्देशन व अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सखाराम सेगंर के मार्गदर्शन व एसडीओपी नीरज नामदेव जोबट के कुशल नेतृत्व में थाना प्रभारी जोबट दिनेश सोलकीं के हमराह टीम गठित की गई थी। जिसमे उनि रणजीत मकवाना, सउनि सुरेन्द्र सिहं सिसोदिया, प्र.आर. 45 गरवर सिेंह, आर. 220 गणेश आर.241 माधव, सैनिक सजंय व वीरेन्द्र का विशेष योगदान रहा। चोरी का पर्दा फार्श करने वाली टीम को पुलिस अधीक्षक द्वारा टीम के उत्साहवर्धन हेतु बधाई देकर उचित इनाम देने की बात कही है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here