कांग्रेस जिलाध्यक्ष पटेल ने जिले में शासकीय देशी-विदेशी शराब की दुकानों पर बढ़ते अवैध शराब के कारोबार एवं परिवहन पर प्रतिबंध लगाए जाने की मांग की

0
327

आलीराजपुर। जिले मे इन दिनों आबकारी विभाग, पुलिस विभाग ओर शराब ठेकेदारों की मिलीभगत से चल रहे है अवैध शराब के परिवन ओर विक्रय पर अंकुष लगाने ओर इस धंधे में शामिल अधिकारी कर्मचारियों ओर ठेकेदारों के खिलाफ कठोर कार्यवाही करने की मांग शासन एवं जिला प्रषासन से की है। मुख्यमंत्री कमलनाथ, प्रभारी मंत्री सुरेंद्रसिंह बघेल, आयुक्त, आबकारी विभाग, भोपाल ओर अलीराजपुर कलेक्टर को भेजे गए षिकायती ज्ञापन में कांगे्रस जिलाध्यक्ष महेश पटेल ने बताया कि जिले के अंतर्गत अलीराजपुर, नानपुर, उमराली, सोण्डवा, छकतला, कट्ठीवाड़ा, चंद्रशेखर आजाद नगर, जोबट, उमराली, उदयगढ़, आंबुआ, चांदपुर एवं सेजावाड़ा में स्थित शासकीय देशी-विदेशी शराब की दुकानों पर आबकारी विभाग, पुलिस विभाग एवं शराब ठेकेदारों की मिलीभगत से इन दिनों बड़े पैमाने पर अवैध शराब विक्रय का कारोबार जोर-शोर से चल रहा है। इन दुकानों से छोटे-बडे़ वाहनों के माध्यम से जिले एवं समीपवर्ती गुजरात, महाराष्ट्र प्रांत में अवैध रूप से शराब का परिवहन किया जा रहा है। इसके अलावा जिले में छोटे-बडे़ वाहनों के माध्यम से बाहरी क्षैत्रों से अवैध शराब का परिवहन हो रहा है। शराब फैक्ट्रीयों से अवैध रूप से शराब सीधे इस जिले में आ रही है। आबकारी विभाग ओर पुलिस विभाग की मिलीभगत होने के कारण इस अवैध परिवहन पर कोई कार्यवाही नही की जाती है। इस अवैध करोबार से मप्र एवं गुजरात दोनो राज्यों की राजस्व हानि हो रही है। एक परमीट पर दस दस गाडियां निकल रही है। समीपस्थ ककराना, जलसिंधी आदि नर्मदा तट पर मोटर बोट के जरिए रात दिन अवैध शराब का धडल्ले से बेखौफ परिवहन हो रहा है। सूत्रों से ज्ञात हुआ है कि वर्तमान में जो जिला आबकारी अधिकारी पदस्थ हुए है उनकी ठेकेदारों से पार्टनरशीप है। इस वजह से इस अवैध धंधो पर अंकुश नही लग रहा है। पिछले दिनों जोबट क्षेत्र से अवैध शराब भरी दो ट्रक आबकारी विभाग ने जप्त किए थे, परन्तु दूसरे दिन ठेकेदारों से सेंटिग कर विभाग ने एक ट्रक छोड दी थी। इस मामले को मिडिया ने भी उठाया था। जिले में ऐसी नकली ओर जहरीली शराब परोसी जा रही है जो लागो के लिए जानलेवा सिद्ध हो रही है। शर्मनाक ओर विडम्बना है कि जिले में कानून नाम की चीज ही नही बची है। अवैध शराब के ठेकेदार ओर आबकारी अधिकारी कर्मचारी तथा पुलिस विभाग ने आत्म सम्मान खोकर जिले के को नर्क बना दिया है। पिछले दिनों जिले में जो अवैध शराब परिवहन के वाहन, भण्डारण जब्त किये गये है साथ ही आबकारी विभाग कार्यालय के पीछे वर्षो से संचालित की जा रही अवैध शराब फैक्ट्री के खिलाफ कार्यवाही हुई है वह बाहरी टीम द्वारा की गई है। यंहा जवाबदार अधिकारी तो आंखे मुंदे बैठे है। जिले में जंहा जंहा लाईसेंसी शराब की दूकानें है वंहा ठेकेदारों ने अवैध रूप से जमकर शराब का भंडारण किया हुआ है। उनके गोदामों की भी जांच होना चाहिए। कांगेसी नेता पटेल ने शासन-प्रषासन से मांग की है कि जिले में बैखोफ हो रहे अवैध नकली शराब के परिवहन, विक्रय पर अंकुश लगाने हेतु जिले की समस्त शासकीय देशी विदेशी शराब दुकानों पर सीसीटीवी कैमरे, शासकीय दुकानों पर विशेष पुलिस बल तैनाती, अवैध परिवहन कने वाले वाहनों की सुक्ष्मता से जांच करने एवं इस अवैध कारोबार में लिप्त आबकारी विभाग के अधिकारीयों कर्मचारियों एवं शराब व्यवसायियों के विरूद्ध कठोर दण्डात्मक कार्यवाही की त्वरित कार्यवाही की जावें। श्री पटेल ने जिले में सक्रिय जयस संगठन से भी अनुरोध किया है कि वो जिले में चल रहे इस अवैध शराब के खिलाफ कठोर आवाज उठाये ओर गांव-गांव जाकर अवैध शराब व्यवसाय को बंद करने की मुहिम चालू करे। शराब की हर सरकारी दूकानों पर निगरानी रखे कि वंहा से अवैध ढंग से शराब का परिवहन ना हो ओर नही परिवहन हो। आदिवासी समाज को यदि इस अवैध नकली ओर जहरीली शराब से बचाना है तो जसय को पूरी ताकत के साथ आगे आना होगा। यह जानकारी जिला कांग्रेस मिडिया प्रभारी रफीक कुरैशी ने दी।