चौकीदार ने किया मालिक के विश्वास का कत्ल, जानिए खतरनाक मंसूबेे की दास्तां..

0
5796

सलमान शेख। झाबुआ Live..
पेटलावद। 6 दिन पहले हुई श्याम चौधरी मर्डर कैस की मिस्ट्री का आज एसपी विनीत जैन ने पुलिस थाने पेटलावद पहुचकर खुलासा कर दिया। इस मामले में मुख्य आरोपी श्याम चौधरी का चौकीदार नाथू निवासी ठिकरिया ही निकला है, जो मालिक की दौलत कब्जाने की फिराक में था।
एसपी श्री जैन ने वारदात का खुलासा करते हुए बताया कि श्याम के पास बिजनेस काफी बड़ा था, खेत के कामकाज के लिए उसने नाथू को साथ रखा। मगर, कर्ज में डूबे नाथू की नजर श्याम की सोने की चेन पर थी। यही वजह थी कि सालो जिस मालिक का नमक खाया, आज उसे ही बड़ा जख्म दे डाला।

घटनास्थल के निरीक्षण से प्रतित हुआ कि बदमाश द्वारा पुलिस को गुमराह करने हेतु घटनास्थल पर गद्दातकिया व कण्डोम रखकर बनावटी रूप दिया गया था। पुलिस द्वारा अपराध क्रमांक 230/2019 धारा 302 भादवि का प्रकरण दर्ज कर घटना की गम्भीरता को देखते हुए श्रीमान पुलिस अधीक्षक महोदय झाबुआ के निर्देश पर अज्ञात बदमाश की पतारसी करने हेतु एक टीम का गठन किया गया। पुलिस टीम द्वारा इस अंधे कत्ल का पर्दाफास करने हेतु लगातार प्रयास कर काफी लोगो से पूछताछ की गई तोपुलिस को श्याम चौधरी के गार्डन पर काम करने वाले चौकीदार नाथु पर शंका होने पर नाथु को थाने लाकर बारिकी से पूछताछ करने पर नाथु द्वारा शाम 06:00 बजे घर जाना बताया जब कि मुखबीर द्वारा बताया गया कि नाथु रात्रि 08:00 बजे गार्डन पर ही मौजुद था जिस पर पुलिस को नाथु पर शंका होने पर उससे पूछताछ करते वह बारबार अलगअलग बयान देकर पुलिस को गुमराह करता रहा। पुलिस द्वारा उसके दिये गये कथनो की तस्दीक करते उसके द्वारा दिया गया प्रत्येक कथन‍ असत्य पाया गया तब नाथु से काफी सख्ती से पूछताछ करते नाथु ने बताया कि उसके उपर अधिक कर्ज होने से रूपयों की जरूरत थीवह श्याम चौधरी से बारबार रूपयों की मांग कर रहा था तो श्याम द्वारा रूपयें नहीं देने पर घटना दिनांक को जब श्याम खेत पर पडे पलंग पर लेटकर मोबाईल देख रहा था तब मौका पाकर उसने खेत पर पडे मोटे डण्डे से श्याम के सिर पर मारकर उसकी हत्या कर दी तथा पुलिस को गुमराह करने के लिए उसने घटनास्थल के पास गद्दातकिया बिछाकर कण्डोम रख दिये। पुलिस द्वारा आरोपी नाथु को गिरफ्तार कर उससे घटना में प्रयुक्त डण्डा तथा मृतक के गले से निकाली गई सोने की चेन व मृतक का मोबाईल जप्त कर इस अंधे कत्ल का पर्दाफास किया। इस अंधे कत्ल का पर्दाफास करने में श्रीमान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक महोदय विजय डावर झाबुआअनुविभागीय अधिकारी पेटलावद श्रीमति बबिता बामनिया के निर्देशन में थाना प्रभारी पेटलावद नरेन्द्र वाजपेयीउप निरीक्षक नरेश ननामाउप निरीक्षक विजय वास्कले,सउनि राजेन्द्रसिंह राजपूतप्रआर 01 शफीउद्दीन कुरैशीप्रआर 373 मुकेश वर्माप्रआर 512 मुनेन्द्र कुशवाहप्रआर 331 हितेन्द्र चन्द्रवंशीप्रआर 242शान्तिलाल पगारेप्रआर 433फोदलसिंह,आरक्षक562शैलेन्द्रआरक्षक 314 मुकेश आरक्षक580 तरवेजआरक्षक 487 लालसिंहआरक्षक484 देवेन्द्र राठौरआरक्षक 131 अरूण,, आरक्षक24 साबिरआरक्षक चालक 623 मोतीलाल का सराहनीय कार्य रहा। पुलिस अधीक्षक महोदय झाबुआ द्वारा टीम को उचित ईनाम देने की घोषणा की गई है।