क्या ” अपनो ” की गद्दारी से पार पा सकेंगे ” जी एस डामोर ? जानिए इस खबर मे क्यो कमल को धोखा दे रहे थे जिम्मेदार भाजपाई

0
5867

[] चंद्रभानसिंह भदोरिया @ चीफ एडिटर
विधानसभा के लिए मतदान खत्म हुआ अब 11 को परिणाम की बारी है लेकिन आज इस आलेख मे हम समीक्षा करेगे कि बीजेपी के अचानक से प्रत्याशी बनाए गये जीएस डामोर क्या अपनी ही पार्टी के जिम्मेदारो द्वारा किए गये भितरघात से पार पा सकेंगे ? क्या वह भाजपा के कोर वोट पा सकेंगे ? अगर हां तो उनकी जीत जेवियर मैडा के प्रदश॔न पर टिकी हुई है ओर अगर कोर वोट नही पा सके तो तीसरे स्थान पर लुढकने का खतरा बरकरार है । अब आइये बात करते है कि क्या जी एस डामोर को झाबुआ विधानसभा के भाजपाई पचा पाये या नही ? जवाब है बिलकुल भी नही .. दरअसल जी एस डामोर विगत डेढ़ साल से पेटलावद के लिए तैयारी कर रहे थे सुत्र बताते है कि डामोर करीब करीब पेटलावद से टिकट पाने मे कामयाब हो जाते अगर एन वक्त पर केंद्रीय मंत्री ओर दाहोद के सासंद जसवंत भाबर से निर्मला परिवार का रिश्ता ना निकलता .. बताते है कि जसवंत भाबर ने अमित शाह को निर्मला को ही टिकट देने को राजी किया ओर अमित शाह ने संघ को किये वादे के अनुरुप जी एस डामोर को झाबुआ से टिकट दे दिया ओर वह भी शांतिलाल बिलवाल का टिकट काटकर .. सुत्र बताये है कि डामोर के नाम पर झाबुआ के भाजपाई दो कारणों से ऊचे नीचे हो गये थे पहला कारण यह कि इतने उच्च स्तरीय संपक॔ वाला शख्स अगर विधायक बन गया तो वे तो बंधुआ मजदूर बन जायेगे ओर उनकी भाजपा के नाम पर चल रही दुकान दारिया बंद हो जायेगी ओर दूसरा यह कि जितने भी सामान्य वग॔ के नेता है वह पट्टेबाजी की राजनीति करते है तो उनके पट्ठो की संभावना खत्म हो जायेगी तो कोन उनसे जुड़ेगा ? ओर एक यह कि जो भाजपाई विधायक बनने का भविष्य मे सपना देख रहे थे उनके सपने दम तोड देते इसलिऐ ज्यादातर ने चुनाव प्रचार की ओपचारिकता की .. किसी ने जेवियर को पर्दे के पीछे मदद की तो किसी ने डाक्टर विक्रांत का काम किया .. हालांकि खुलकर किसी ने नहीं किया लेकिन किया है .. खैर अब परिणाम क्या आता है यह 11 तारीख तय करेगी लेकिन यह भी सच है कि मतदाताओ ने वोट देते समय मोदी ओर शिवराज को भी देखा होगा जो भाजपाई मानसिकता के होंगे .. सुत्र बताते है कि खुद जीएस डामोर को इन हालातो का अहसास था इसलिऐ उन्होंने तीन चरणों का मैनेजमेंट किया था पहला पार्टी लेवल का ; दूसरा संघ लेवल का ओर तीसरी उनकी खुद की निजी टीम जिसमे उनके दोस्त- शुभचिंतक आदि शामिल थे .. ओर देखना यह है कि 11 तारीख को जीएस डामोर का मैनेजमेंट जीतता है या पंजाछाप ओर हलछाप भाजपाईयों की नीयत ?

 

नोट – अगर आप झाबुआ – अलीराजपुर जिले के मूल निवासी है ओर हमारी खबरें अपने वाट्सएप पर चाहते है तो आप हमारा मोबाइल नंबर 9425487490 को पहले अपने स्माट॔फोन मे सेव करे ओर फिर Live news लिखकर एक मेसेज भेज दे आपको हमारी न्यूज लिंक मिलने लगेगी