श्रीकृष्ण जिनको चुनते है वे श्रीमद भागवत कथा में बैठते है, श्रीकृष्ण को पाने के लिए निष्काम भक्ति करे : देवी नेहा-निधि सारस्वत

0
32

भूपेंद्र बरमंडलिया, मेघनगर
प्रदेश के प्रसिद्ध तीर्थस्थल श्रीवनेश्वर मारुती नंदन हनुमान मंदिर में देवी नेहा और निधि के श्रीमुख से चल रही श्रीमद् भागवत कथा के दूसरे दिन देवी नेहा और निधि ने कहा कि लोग जिनको चुनते है वो संसद में बैठते है और श्रीकृष्ण जिनको चुनते है वो श्रीमद भागवत कथा में बैठते है। श्रीमद भागवत कथा के द्वितीय दिवस में देवी नेहा और निधि ने श्रीराम और श्रीकृष्ण के व्यक्तित्व का बहुत ही प्रभावी ढंग से परिचय दिया। उन्होंने उपस्थित श्रद्धालुओं को श्रीराम नवमी की बधाई देते हुए कहा कि हर व्यक्ति का आदर्श भगवान श्रीराम के जैसा होना चाहिए, भटकते हुए युवाओं को जीवन में एक बार भगवान श्रीराम के चरित्र को पढऩा चाहिए। युवा और बच्चे नकली स्पाइडर मैन को के पीछे भाग रहे है लेकिन असली स्पाइडर मैन तो श्रीराम के भक्त हनुमानजी है। हनुमान जी की भक्ति से श्रीराम तक पहुंच सकते है। श्रीराम और श्रीकृष्ण एक ही है, श्रीराम थोड़े गभीर है, तो श्रीकृष्ण चपल और शरारती। सूतजी का परिचत देते हुए देवी नेहा और निधि सारस्वत ने बताया कि कोई भी व्यक्ति उम्र से नही ज्ञान से बड़ा होता है। हर वस्तु को पाने के लिए परिश्रम करना पड़ता है, लेकिन गोविंद को पाने के लिए प्रभु श्रीकृष्ण को पाने के लिए निष्काम भक्ति जरूरी है। उन्होंने कहा कि भगवान से धन दौलत मत मांगिए, भगवान से सिर्फ भगवान को मांगे। श्रीमद भागवत हमको वर्तमान में जीना सिखाती है। इसलिए चिंता नही चिंतन कीजिए। अपना जीवन प्रभु को अर्पित करने से जीवन सफल और विपत्ति रहित हो जाता है। श्री वनेश्वर मारुति नंदन हनुमान जयंती महोत्सव समिति के सदस्य मुकेशदास महाराज, श्रीरामदास जी त्यागी टाट वाले बाबा,सुरेशचंद्र पूरणमल जैन, श्रीमती सीमा जैन, राजेश रिंकू जैन, श्रीमती नीता जैन,जैकी जैन ने नगर, जिले और प्रदेश की धर्म प्रेमी जनता से प्रतिदिन श्रीमद् भागवत कथा के श्रवण प्रतिदिन हो रहे भंडारे और देर शाम के भक्तिमय कार्यक्रमों में आने का विनम्र आग्रह किया है।

बृज कलाकारों ने किया मत्रमुग्ध-
आयोजन के प्रथम दिवस देर शाम होने वाले धार्मिक कार्यक्रमों में बृज लोक कला मंच के विष्णु दत्त शर्मा और साथी कलाकरों ने श्रीराधेकृष्ण की बहुत ही भावनात्मक झांकियों का जीवंत चित्रण कर सभी को आत्ममुग्ध कर दिया है। बृज लोक कला मंच के कलाकारों द्वारा दी गयी भजनों की प्रस्तुतियों पर वातावरण बृजमय हो गया स तेरी एक नजर की बात है ए मेरी जिंदगी का सवाल है और तेरी भोली सी सूरत सांवरिया, मेरी दिल मे बसी जा रही है, मिल भी जाओ के ये रिश्ता है पुराना कहा मिलोगे बता दो ठिकाना, जैसे भजनों ने आयोजन को नई ऊंचाइयां प्रदान की।
पंकज उदास देंगे भजन प्रस्तुतियां-
श्री वनेश्वर मारुति नंदन हनुमान जयंती महोत्सव में प्रतिदिन देर शाम चल रहे अंतरर्राष्ट्रीय स्तर के कार्यक्रमो में आज प्रसिद्ध गजल और भजन गायक पंकज उदास अपनी प्रस्तुतियां देंगे। समिति के वरिष्ठ सदस्य सुरेशचंद्र पूरणमल जैन और राजेश रिंकू जैन ने जिले और नगर वासियों के साथ प्रदेश और पड़ोस के गुजरात और राजस्थान राज्यो के श्रद्धालुओं से भी आयोजन में आने का आग्रह किया है।

)