राजनीतक हलचल झाबुआ – अलीराजपुर

0
3024

चन्द्रभानसिंह भदौरिया@चीफ editor

चावडा पर किसने साधा निशाना

आज झाबुआ मे आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर बीजेपी की झाबुआ ओर अलीराजपुर जिले की सयुंक्त बैठक आयोजित की गयी थी जिसमे दोनो जिलों के संगठन के प्रमूख लोगो के अलावा सभी पूर्व विधायकों ; वत॔मान विधायक आदि को आमंत्रित किया गया था बैठक के बाद नाश्ते के वक्त अलीराजपुर जिले के एक पूर्व विधायक ने संभागीय संगठन मंत्री जयपाल सिंह चावडा को खूब खरी खरी सुनाई .. दरअसल पूर्व विधायक जी इस बात से नाराज है कि जिले मे संगठन का काम लगभग ठप पडा है ओर जिलाध्यक्ष राकेश अग्रवाल पूरी तरह से निष्क्रिय है .. इस पर संभागीय संगठन मंत्री ने जिला महा मंत्रीयों से काम चलवाने का सुझाव दिया इस पर पूर्व विधायक बुरी तरह संभागीय संगठन मंत्री पर यह कहते हुऐ बीफर पडे की अलीराजपुर जिले मे पार्टी का बंटाधार करने मे उनकी (संभागीय संगठन मंत्री ) की भूमिका है । गोरतलब है कि चावडा पर कई जिलों के संगठन को नेस्तनाबूत करने के साइलेंट आरोप लगते रहे है मगर शिवराज के करीबी होने के चलते चावडा हमेशा बचते रहे लेकिन अब वह फिर से कई जिलों के भाजपाईयों के निशाने पर है ।

क्यो भड़के कलसिंह & संजय भाबर

लोकसभा चुनाव की थादंला विधानसभा स्तरीय बैठक मे पूर्व विधायक कलसिंह भाबर ओर उनके पुत्र संजय भाबर अचानक बैठक प्रभारी विश्वास सोनी ओर सह प्रभारी बंटी डामोर पर यह आरोप लगाते हुऐ भडक गये कि विधानसभा मे उनके खिलाफ काम करने वालो को पार्टी अहम जिम्मेदारी क्यो दे रही है ? यह बात अलग है कि बैठक का प्रभारी बनाने का फैसला जिस बैठक मे हुआ था उसमे खुद कलसिह भाबर मौजूद थे ..खैर अब कलसिंह भाबर को अहसास हो रहा है कि पार्टी के खिलाफ जाने वालो का क्या होना चाहिए जबकि वह खुद बीजेपी की जमानत जब्त करवा चुके है ।

क्या लाखो का हिसाब है विवाद की वजह ?

खबर छनकर आ रही है कि अलीराजपुर जिले के बीजेपी जिलाध्यक्ष राकेश अग्रवाल को हटाने के लिए दोनो पूर्व विधायकों ने एका कर लिया है ओर संगठन के कमजोर होने का हवाला देकर राकेश अग्रवाल की विदाई की तैयारी है लेकिन हमारे सुत्र बताते है कि जब तक सत्ता थी तब तक राकेश अग्रवाल बहुत बढिया थे लेकिन सत्ता ओर विधायकी गयी ओर जब राकेश अग्रवाल ने हिसाब निकला तो लाखो का हिसाब निकला ओर ज्यादातर उनके पेट्रोल पंप का था लिहाजा अब कोन भुगतान करे यह विवाद खडा हुआ ओर मतभेद बढे तो बढते गये ।

बीजेपी की तलाश लोकसभा उम्मीदवार की जारी

लोकसभा मे सांसद कांतिलाल भूरिया के सामने किसे खडा किया जाये इसके लिए बीजेपी खासी परेशान है चेहरो मे तो गुमानसिंह डामोर से लेकर निर्मला ओर कलसिह से लेकर माधो दादा भी जोर आजमा रहे है ओर रतलाम से संगीता चारेल भी ताल ठोक रही है ओर सीसीबी चेयरमैन गोरसिंह वसुनिया की भी प्रबल इच्छा है लेकिन कामयाब कोन होगा यह देखने वाली बात होगी ..दरअसल सभी को लगता है कि मोदी का चेहरा उन्हें संसद भवन पहुंचा देगा लेकिन हकीकत मे यह इतना आसान नही है।

इधर ” जयस” कांग्रेस की मुसीबत बनने को तैयार

विधानसभा चुनाव मे ” जयस” ने कांग्रेस को साइलेट सपोर्ट किया था मगर लोकसभा चुनाव मे जयस खुद रतलाम सीट राहुल गांधी से मांग रहा है लेकिन कांतिलाल भूरिया के चलते यह संभव नही है लिहाजा डाक्टर हीरालाल अलावा यह संकेत दे रहे है कि जिन 6 लोकसभा सीटो पर जयस अपने उम्मीदवार खडे करेगा उनमे रतलाम – झाबुआ सीट भी शामिल है ।

जिलाध्यक्ष को लेकर कयास का दोर ; लेकिन विधायक का वीटो

खबर है कि बीजेपी जिलाध्यक्ष को लेकर बीजेपी ने यह तय किया है कि करीब एक दज॔न बीजेपी जिलाध्यक्ष बदले जायेगे ..इस सुची मे झाबुआ का भी नाम था पर बताते है झाबुआ विधायक गुमानसिंह डामोर ने वीटो का प्रयोग कर ओम शर्मा को फिलहाल बचा लिया है हालांकि अन्य लोग जिलाध्यक्ष बनने को लेकर सक्रिय हो गये है ।

)

नोट – अगर आप झाबुआ – अलीराजपुर जिले के मूल निवासी है ओर हमारी खबरें अपने वाट्सएप पर चाहते है तो आप हमारा मोबाइल नंबर 8718959999 को पहले अपने स्माट॔फोन मे सेव करे ओर फिर Live news लिखकर एक मेसेज भेज दे आपको हमारी न्यूज लिंक मिलने लगेगी

नोट : अगर पहले से हमारे मोबाइल नंबर 9425487490 से हमारी खबरें पा रहे हैं तो कृपया ऊपर वर्णित खबर पर न्यूज के लिए मैसेज न भेजे।